मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, बल्लभगढ़ :

नोएडा-ग्रेटर नोएडा को सीधे फरीदाबाद से जोड़ने की योजना यूं तो 1989 में बनाई गई थी, लेकिन अब यह योजना सिरे चढ़ने लगी है। राज्य के लोक निर्माण विभाग ने गांव मंझावली के पास पुल बनाने का प्रस्ताव केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय को सौंपा है। मंत्रालय के सचिव विजय छिब्बर इस सिलसिले में एक बैठक भी ले चुके हैं।

लोक निर्माण विभाग के प्रस्ताव के मुताबिक यमुना पर चार लेन का पुल बनाया जाएगा, जिस पर लगभग 119 करोड़ रुपये के खर्च का अनुमान लगाया गया है। विभाग के कार्यकारी अभियंता दिलबाग सिंह ढांढा बताते हैं कि पहले यह पुल दो लेन का प्रस्तावित था, लेकिन मंत्रालय के सचिव विजय छिब्बर ने पुल को फोर लेन का बनाने का सुझाव दिया था। इसलिए फोर लेन पुल के आधार पर विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की गई है।

यह होगा फायदा

इस पुल के बनने से ग्रेटर फरीदाबाद में बन रहे नए सेक्टरों के अलावा मास्टर प्लान 2031 में प्रस्तावित नए सेक्टर सीधे ग्रेटर नोएडा से जुड़ जाएंगे। इतना ही नहीं, इस पुल से आसपास के गांवों को भी आने-जाने के अलावा प्रापर्टी की कीमतों में होने वाले उछाल का फायदा मिलेगा। यह पुल उत्तर प्रदेश में यमुना एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा। इससे गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर, दादरी जैसे इलाकों से फरीदाबाद में आना-जाना आसान हो जाएगा। इतना ही नहीं, गुड़गांव, रेवाड़ी के लोगों को भी ग्रेटर नोएडा-बुलंदशहर जाने के लिए दिल्ली जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, बल्कि वे फरीदाबाद से होते हुए इस पुल का इस्तेमाल कर सकेंगे।

गुर्जर ने निभाई अहम भूमिका

गांव मंझावली तिगांव विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। यहां से केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं जहाज रानी राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर भाजपा के विधायक थे। चुनाव के दौरान उन्होंने लोगों से वादा किया था कि वह मंझावली पर प्रस्तावित पुल बनवाएंगे। यही वजह रही कि जैसे ही गुर्जर चुनाव जीते और उन्हें सड़क परिवहन राज्यमंत्री बनाया गया तो उन्होंने मंझावली पुल बनवाने के प्रयास शुरू कर दिए थे और इन्हीं प्रयासों के चलते पुल का खाका तैयार हो गया है।

विस चुनाव से पहले हो सकता है शिलान्यास

भाजपा इस पुल का फायदा अक्टूबर में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव में उठा सकती है। इसलिए भाजपा की कोशिश होगी कि विधानसभा चुनाव से पहले पुल का शिलान्यास कार्यक्रम हो जाएगा। सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी से शिलान्यास कराया जा सकता है। कृष्णपाल गुर्जर के सांसद बनने के बाद वैसे तो तिगांव सीट खाली हो गई है, लेकिन गुर्जर अब यहां से अपने बेटे देवेंद्र गुर्जर को विधानसभा चुनाव लड़ाना चाहते हैं।

1989 में बनाई गई थी योजना

यमुना पर गांव मंझावली में पुल बनाने की योजना 1989 में केंद्रीय भूतल परिवहन राज्य मंत्री स्व. राजेश पायलेट उत्तर प्रदेश सीमा में आधारशिला रख चुके हैं। तत्कालीन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी तथा हरियाणा के मुख्यमंत्री चौधरी देवीलाल भी इस मौके पर उपस्थित थे, लेकिन आधारशिला के बाद यहां ईट तक नहीं रखी गई। प्रदेश व केंद्र सरकार ने इस योजना की ओर ध्यान तक नहीं दिया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप