जागरण संवाददाता, भिवानी : जिला उपभोक्ता फोरम ने खराब फोन के बदले कंपनी द्वारा नया फोन उपभोक्ता को दिए जाने के आदेश दिए। मगर कंपनी मैनेजर नया फोन देने की बजाय पुराना फोन भी अपने साथ लेकर चलता बना। फोरम के आदेश के एक साल बाद भी नया फोन न देने पर जिला उपभोक्ता फोरम ने शुक्रवार को आरोपित कंपनी मैनेजर के खिलाफ वारंट जारी करते हुए नया फोन उपभोक्ता को जल्द देने के आदेश दिए है। फोरम ने 28 जनवरी को मैनेजर को फोरम के समक्ष पेश होने के आदेश दिए है।

गांव खरकड़ी सोहान निवासी राजेश कुमार ने 28 जनवरी 2017 को हांसी गेट हालुवास मॉल स्थित माइक्रोमेक्स कंपनी का मोबाइल फोन खरीदा था। राजेश ने बताया कि यह फोन कुछ माह बाद ही खराब हो गया। उसने कंपनी व दुकान संचालक को इस बारे में शिकायत करते हुए उसका मोबाइल फोन ठीक करने को कहा। उसने कंपनी के सर्विस सेंटर पर अनेक बार चक्कर लगाए, लेकिन उसे फोन नहीं मिला। आखिरकार उसने 18 अप्रैल 2017 को जिला उपभोक्ता की शरण लेते हुए नया फोन दिलाने की मांग की। फोरम के समक्षकंपनी के मैनेजर रोहित ने कहा कि पुराना फोन लेकर जा रहा हूं और नया फोन कल दे दिया जाएगा। मगर इसके बाद कंपनी मैनेजर उपभोक्ता को न तो पुराना फोन दिया और न ही नया फोन। करीब एक साल बीत जाने के बाद उपभोक्ता इस मामले को लेकर फोरम में फिर से पहुंचा। शुक्रवार को इस मामले में जिला उपभोक्ता फोरम के चेयमैन मनजीत ¨सह नरयाल ने कंपनी मैनेजर के गिरफ्तारी वारंट जारी करते हुए उपभोक्ता को नया मोबाइल दिए जाने के आदेश दिए है।

Posted By: Jagran