जागरण संवाददाता, भिवानी : अणुव्रत के संकल्पों से बड़ी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। यह बात तेरापंथी महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुरेन्द्र जैन एडवोकेट ने अणुव्रत समिति द्वारा श्रीराम पाठशाला में अणुव्रत के 73वें स्थापना दिवस कार्यक्रम में संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि आचार्य तुलसी की प्रतिपादित अणुव्रत की आचार संहिता में वर्तमान की सभी समस्याओं का निदान निहित है। समिति के अध्यक्ष रमेश बंसल ने अणुव्रत की व्याख्या करते हुए कहा कि अणुव्रत का सामान्य अर्थ छोटे-छोटे व्रत है।

बंसल ने कहा कि पाठशाला के बच्चों को विद्यार्थी अणुव्रत के नियमों का पालन करना चाहिए और परीक्षा में पास होने के लिए नकल नहीं करनी चाहिए। कार्यक्रम का संयोजन समिति के मंत्री बृजेश आचार्य ने किया। विद्यालय की प्राचार्या संगीता अरोड़ा ने अणुव्रत समिति द्वारा कार्यक्रम आयोजित करने पर स्वागत किया और रमेश बंसल को समिति का अध्यक्ष नियुक्त होने पर शुभकामनाएं दी। कार्यकर्ता राजेंद्र कौशिक का अभिनन्दन किया गया। कौशिक ने अपने ट्रस्ट की ओर से पाठशाला ट्रस्ट को आर्थिक सहायता दी है। विद्यालय के बच्चों ने अणुव्रत गीत प्रस्तुत किया। इस अवसर पर संगीता अरोड़ा, राज रानी, ममता, सुमित्रा, लक्ष्मी सैनी सहित अनेक अणुव्रत कार्यकर्ता उपस्थित थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप