मदन श्योराण, ढिगावा मंडी:

कॉटन कार्पोरेशन ऑफ इंडिया (सीसीआइ) की ओर से बुधवार को आजादी के बाद पहली बार बलेसर कपास खरीद केंद्र ढिगावा जाटान की नई अनाज मंडी को बनाया। किसान अपनी कपास की फसल लेकर नई अनाज मंडी ढिगावा जाटान पहुंचे। सुबह नौ बजे सीसीआइ अधिकारी बनवारी लाल, जननायक सेवा दल के राष्ट्रीय महासचिव वजीर मान, मंडी प्रधान महावीर मातेनहलिया और मार्केट कमेटी के कर्मचारियों ने नारियल तोड़कर और प्रसाद वितरित कर कपास खरीद की शुरुआत की।

नई अनाज मंडी ढिगावा जाटान में कपास की खरीद शुरू हो गई है। पहले दिन सीसीआइ ने 11 किसानों से करीब 230 क्विंटल नरमा खरीदी। किसी भी किसान के नरमे में नमी की मात्रा 12 प्रतिशत से ज्यादा नहीं थी। चार दिन बाद शनिवार को एक किसान धान की फसल लेकर मंडी में पहुंचा, जहां उसका 50 क्विंटल धान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा। किसान को

जिले में सीसीआइ ने ढिगावा जाटान की नई अनाज मंडी में बुधवार को नरमा की खरीद शुरू कर दी है। सुबह होते ही पंजीकरण करने वाले किसान अपनी ट्रालियां लेकर कपास मंडी में पहुंच गए। जहां सीसीआइ कर्मचारियों द्वारा किसानों के नरमा की नमी जांची गई। उसी के अनुसार किसानों की फसल का दर तय किया। अपनी नरमा की फसल लेकर पहुंचे किसानों ने बताया कि वह अपने कागजात सीसीआइ कार्यालय में जमा करवाकर गए थे। दो निजी मिलों से अनुबंध

सीसीआइ अधिकारी बनवारी लाल ने बताया कि जिले में अभी तक सीसीआइ द्वारा केवल ढिगावा जाटान कपास खरीद शुरू की है। ढिगावा मंडी में दो निजी मिलों के साथ अनुबंध हुआ है। जहां सीसीआइ किसानों के नरमे की खरीद कर सीधे मिलो तक पहुंचाएगी। वहीं जिन किसानों ने अपना पंजीकरण करवाया था, वह सीसीआइ कार्यालय में अपने टोकन के लिए जमीन की गिरदावरी और अन्य कागजात लेकर पहुंचे।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप