जागरण संवाददाता, भिवानी :

धुंध लगातार बढ़ रही है। रात और सुबह शाम तो ज्यादा धुंध रहती है। सरकुलर रोड पर पिछले दिनों सफेद पट्टी लगाने की औपचारिकता तो की थी लेकिन अब कई जगह से वह मिट चुकी है। इससे भी बढ़ कर डिवाइडर ज्यादातर टूट चुका है। सड़क हादसों का डर बना है। यहां दिनभर धूल उड़ती रहती है। आस पास के दुकानदार और राहगीर परेशान हैं और उनकी फरियाद सुनने के लिए कोई तैयार नही है। सब भगवान भरोसे छोड़ रखा है, पता नहीं कब ली जाएगी सुध : दुकानदार मनोज कुमार, विजय कु़मार, राकेश कुमार, पंकज आदि ने बताया कि पिछले दिनों रोहतक गेट से बावड़ी गेट तक सड़क बनाई गई। इसके बाद बावड़ी गेट पर पहुंचते ही यहां सड़क निर्माण पर ब्रेक लग गया। बाद में कहा गया कि यहां पर सीसी रोड बनाया जाएगा। चार माह का समय बीत चुका है यहां पर न तो सीसी रोड बना ना ही किसी प्रकार की दूसरी सड़क बनी। डिवाइडर वर्षों से टूटा है बना है हादसों का डर

सरकुलर रोड एनएचआइ के तहत आता है। इस रोड को बनाने के आश्वासन तो मिलते रहते हैं पर पूरा नहीं किया जाता। इस रोड पर सफेद पट्टी पिछले दिनों बनाई गई पर अब वह ज्यादातर खराब चुकी है। धुंध में वह नजर नहीं आती। बावड़ी गेट और हनुमान गेट के बीच तो सबसे ज्यादा खराब है। डिवाइड पूरी तरह से टूट चुका है। लगता है प्रशासन किसी बड़े हादसे का इंतजार कर रहा है। सैकड़ों की संख्या में यहां जमा रहते हैं बेसहारा नंदी :

सरकुलर रोड पर सैकड़ों की संख्या में नंदी जमा रहते हैं। बावडी गेट पर तो गंडासा लगा है यहां पर तो नंदियों की भीड़ रहती है। रात होते ही सड़क के बीचों बीच बावड़ी गेट, दादरी गेट, न्यू हाउसिग बोर्ड, हनुमान गेट, हनुमान ढाणी, रेलवे ओवरब्रिज आदि के पास बड़ी संख्या में बेसहारा नंदी देखे जा सकते हैं जो हादसों का कारण बने हैं। सरकुलर रोड से हर रोज गुजरते हैं 50 हजार वाहन

जानकारी के अनुसार सरकुलर रोड से नारनौल और लोहारू की तरफ आने जाने वाले 50 हजार से अधिक वाहन प्रतिदिन गुजरते हैं। ऐसे में यह सड़क उत्तम क्वालिटी की होनी चाहिए पर एनएचआइ बार-बार आश्वासन दे रहा है कि जल्द ही इस सड़क को बनाया जाएगा। खुद मुख्यमंत्री ने भी पिछले दिनों इस सड़क मार्ग का दौरा किया था। आज भी इसकी हालत में सुधार नहीं किया गया है।

Edited By: Jagran