जागरण संवाददाता, चरखी दादरी : जिले में पिछले कुछ दिनों से डीएपी खाद न मिलने की समस्या से परेशान होकर दर्जनों किसानों ने सोमवार को स्थानीय पुरानी अनाज मंडी के वीर सावरकर गेट पर ताला जड़ दिया। गुस्साए किसानों ने सरकार व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की। इस दौरान कांग्रेस नेता नितिन जांघू ने भी मौके पर पहुंच कर किसानों को समर्थन दिया। बाद में मौके पर पहुंचे तहसीलदार बंसीलाल ने किसानों की फोन पर जिला उपायुक्त प्रदीप गोदारा से बात करवाई। उपायुक्त द्वारा खाद की आवक को बढ़ाने के आश्वासन पर किसानों ने गेट खोला। गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से दादरी जिले में किसानों को समय पर डीएपी खाद नहीं मिल पा रही है। जिसके चलते किसानों को रोजाना चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। शहर के विभिन्न बिक्री केंद्रों पर डीएपी के लिए किसानों की लंबी लाइनें देखी जा रही है। डीएपी के लिए किसान सुबह जल्दी आकर लाइनों में लग जाते हैं, उसके बावजूद कई किसानों को खाली हाथ ही वापस लौटना पड़ रहा है। इन्हीं बातों से क्षुब्ध होकर किसानों ने सोमवार को पुरानी अनाज मंडी के वीर सावरकर गेट पर ताला जड़ दिया। जिसके बाद किसानों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। मौके पर मौजूद बाले महराणा, जयभगवान मस्ताना, बिल्लू जांघू, बबलू महराणा, भूप शीशवाला, धर्मपाल ढाणी, दयानंद, तारा चंद, कंवर लाल, जिले महराणा, करतार, फूल सिंह, शमशेर, जयसिंह, फतेह सिंह, रमेश, संजय, सुरेश, धर्मेंद्र इत्यादि ने बताया कि सरकार द्वारा काफी कम डीएपी खाद दादरी भेजी जा रही है। किसानों को छह से सात घंटे तक लाइनों में लगना पड़ता है। किसानों ने बताया कि एक आधार कार्ड पर केवल दो कट्टे ही खाद के दिए जा रहे हैं, जो कि पर्याप्त नहीं है। उन्होंने कहा कि डीएपी खाद न मिलने के कारण फसल की बुआई में भी देरी हो रही है। एनपीके खाद के कट्टे उपलब्ध : कृष्ण

पुरानी अनाज मंडी के गेट को बंद करने की जानकारी पाकर कृषि विभाग के एसडीओ कृष्ण कुमार मौके पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने किसानों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन किसानों ने गेट खोलने से मना कर दिया। एसडीओ ने कहा कि जितनी खाद उपलब्ध है, उसे किसानों को दिया जा रहा है। इफको पर एनपीके खाद के कट्टे उपलब्ध हैं, लेकिन कुछ किसान डीएपी की ही मांग कर रहे हैं। महिलाएं भी लग रही लाइन में : जांघू

मौके पर पहुंचे कांग्रेस नेता नितिन जांघू ने कहा कि खाद की किल्लत के चलते किसानों को अन्य काम छोड़ कर कई-कई घंटे लाइन में लगना पड़ रहा है। छोटे-छोटे बच्चों को घरों में छोड़ कर महिलाएं भी लाइनों में लग रही है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार द्वारा किसानों को जल्द पर्याप्त मात्रा में डीएपी खाद उपलब्ध नहीं करवाई गई तो हर रोज प्रदर्शन किया जाएगा। डीसी के आश्वासन के बाद खोला गेट

पुरानी अनाज मंडी का गेट बंद करने के करीब दो घंटे तहसीलदार बंसीलाल मौके पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने किसानों की फोन पर जिला उपायुक्त प्रदीप गोदारा से बात करवाई। उपायुक्त ने किसानों को आश्वासन देते हुए कहा कि दादरी में डीएपी की आवक को बढ़ाया जाएगा। साथ ही किसानों को एक आधार कार्ड पर दो के बजाय पांच कट्टे दिए जाएंगे। जिसके बाद किसान शांत हुए तथा मंडी के गेट को खोला।

Edited By: Jagran