खरीफ सीजन में करीब 70 प्रतिशत रकबे मे की गई है बाजरे, कपास की खेती

जागरण संवाददाता, चरखी दादरी:

दादरी जिले का बाढड़ा खंड राजस्थान के काफी करीब है। जिसके कारण यहां की जलवायु राजस्थान से काफी मिलती-जुलती है। जिसके चलते जिले के बाढड़ा, झोझू, कादमा

क्षेत्र में बाजरे की अच्छी पैदावार होती है। लेकिन करीब पांच साल पहले ग्वार के आसमान छूते भाव के चलते किसानों ने बाजरें की फसल को महत्व देना छोड़ दिया था। हर किसान अपने खेतों में ग्वार का उत्पादन कर अधिक से अधिक आमदनी करने की चाहत में बाजरे की बीजाई करना एक प्रकार से भूल सा गया था। बीते तीन सालों में ग्वार का भाव काफी नीचे आने पर किसानों ने ग्वार से मुंह मोड़ना शुरु कर दिया है और बाजरे को तवज्जों देने लगे हैं। मौजूदा खरीफ सीजन में दादरी जिले में दूसरी फसलों की अपेक्षा

बाजरे व कपास का रकबा करीब 70 प्रतिशत है। जिसमें से करीब 40 प्रतिशत क्षेत्र बाजरे की बीजाई की गई है। वहीं ग्वार व धान के रकबे में कमी आई है।

ग्वार का भाव व उत्पादन कम होने व धान की खेती में अधिक सिचाई व सेम की समस्या के चलते जिले के किसानों ने बाजरे व कपास की खेती की है। हालांकि कपास में बीते दो-तीन वर्षों के दौरान सफेद मक्खी व उखेड़ा रोग के कारण फसलों को काफी नुकसान हुआ है। लेकिन कपास का भाव दूसरी फसलों की अपेक्षा अधिक होने के कारण किसान बाजरे के साथ-साथ कपास पर ही निर्भर नजर आ रहे हैं। पिछले खरीफ सीजन की अपेक्षा इस बार कपास का क्षेत्र 3 हजार 200 हैक्टेयर बढ़ा है। जबकि ग्वार के क्षेत्र में 9 हजार 500 हैक्टेयर की कमी आई है।

बाक्स:

बढ़ा बाजरे का बीजाई क्षेत्र

किसान राजबीर, संजय, ओमदत्त, रमेश, कुलदीप, राजेंद्र इत्यादि ने बताया कि पांच-छह साल पहले ग्वार के भाव 40 हजार रुपये प्रति क्विटल से भी अधिक हो गए थे। जिसके चलते किसानों ने अपने खेतों में बाजरे की अपेक्षा ग्वार लगाना अधिक बेहतर समझा। उन्होंने कहा कि अब काफी समय से ग्वार का भाव करीब चार हजार रुपये प्रति क्विटल चल रहा है और ग्वार का उत्पादन प्रति एकड़ काफी कम होता है। जिसके चलते उन्होंने अपने खेतों में बाजरे की बुआई करने का निर्णय लिया।

बाक्स:

जिले में बोई गई खरीफ की फसलों के क्षेत्र का विवरण खंड अनुसार

बौंद खंड:

फसल 2018 में क्षेत्र 2019 में क्षेत्र

धान 8500 7500

बाजरा 13000 10500

कपास 6000 7250

ग्वार 7000 3500

गन्ना 1200 1200

दालें 150 00

मक्का 05 00

तिलहन 14 00

मूंग 00 50

चारा 1500 950

दादरी खंड:

फसल 2018 में क्षेत्र 2019 में क्षेत्र

धान 1500 1800

बाजरा 15000 14500

कपास 7000 8750

ग्वार 10500 6500

गन्ना 300 200

दालें 70 20

मक्का 15 00

तिलहन 15 00

मूंग 00 05

चारा 1500 600

बाढड़ा खंड :

फसल 2018 में क्षेत्र 2019 में क्षेत्र

धान 00 00

बाजरा 13000 1600

कपास 15000 15200

ग्वार 10500 8500

गन्ना 00 00

दालें 290 00

मक्का 00 00

तिलहन 14 00

मूंग 00 100

तिलहन 14 00

चारा 1500 1100

नोट: उपरोक्त क्षेत्र हैक्टेयर में है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस