जागरण संवाददाता, चरखी दादरी :

सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों व मनमानी कार्यशैली के खिलाफ सर्व कर्मचारी संघ संबंधित अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फेडरेशन जिला दादरी के बैनर तले कर्मियों ने बुधवार को दादरी नगर में रोष प्रदर्शन किया। प्रदर्शन का नेतृत्व सर्व कर्मचारी संघ के जिला संयोजक राजकुमार घिकाड़ा एवं हेमसा राज्य प्रधान संदीप सांगवान ने किया। कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की तथा 10 सितंबर को विधानसभा कूच के दौरान सर्व कर्मचारी संघ के बैनर तले पहुंचे लाखों कर्मियों पर लाठीचार्ज, आंसू गैस का इस्तेमाल करने की ¨नदा की। कर्मचारियों ने लंबे समय से उनकी मांगों की हो रही अनदेखी पर भी रोष जताया। राजकुमार घीकाड़ा ने कहा कि समान काम समान वेतन, पंजाब के समान वेतनमान, सातवें वेतन आयोग को लागू करना, विसंगतियों को दूर करना, एनपीएस को खत्म कर पुरानी पेंशन नीति को लागू करना, कैशलेस मेडिकल सुविधा, मृतक कर्मचारी के परिजनों में से एक को योग्यतानुसार नौकरी देना, आउट सोर्सिंग, ठेका प्रथा, निजीकरण पर रोक लगाने, आशा, मिड डे मील, आंगनबाड़ी वर्कर, डीटीएच चौकीदारों को सरकारी कर्मियों का दर्जा देने व न्यूनतम वेतन प्रदान करने सहित कई मांगें सरकार के समक्ष रखी हैं। अपनी मांगों को पूरा करवाने व सरकार के तानाशाही रवैये के खिलाफ बुधवार को कर्मचारी रोजगार्डन में एकत्रित हुए और बाद में विरोध प्रदर्शन करते हुए परशुराम चौक एवं नगर के अलग अलग मार्गों से होकर लाला लाजपत राय चौक पर पहुंचे।

ये कर्मचारी नेता थे उपस्थित

इस अवसर पर कृष्ण कुमार भागवी, मा. रामपाल, रमेश जाखड़, जयवीर ¨सह, बिजली यूनिट प्रधान ओमवीर कालेहर, जन स्वास्थ्य प्रधान जगवीर तक्षक, सुरताराम, पीडब्ल्यूडी मेकेनिकल ¨सचाई प्रधान देवेंद्र शर्मा, हेमसा जिला प्रधान विजय लांबा, बाढ़डा प्रधान प्रवींद्र भांडवा, चतुर्थ श्रेणी ब्लाक प्रधान विमलेश, कृष्ण ¨सह, दलवीर सिह सहित बड़ी संख्या में कर्मचारी मौजूद थे।

Posted By: Jagran