जागरण संवाददाता, भिवानी : यूं तो बिजली निगम की लापरवाही किसी की जान भी ले सकती है। जब किसी घर का बिल 70 लाख रुपये आ जाए तो विश्वास नहीं होता। लेकिन मोबाइल पर जो बिजली बिल के मैसेज दिए जा रहे हैं उनमें इस तरह के मैसेज उपभोक्ताओं को मिल रहे हैं। लोग निगम कार्यालय पहुंच कर बता रहे हैं कि इस बार उनके बिल अचानक आमतौर से आने वाले बिलों से दो गुणा या इससे भी ज्यादा हैं। अधिवक्ता पंघाल के चैंबर व घर के दोनों बिल 69-69 लाख रुपये के आए बिजली निगम ने तो उनकी नींद उड़ा दी है। उनके चैंबर का बिल 69 लाख 45 हजार 936 रुपये और घर का बिल 69 लाख 42 हजार 262 रुपये आया है। जबकि वह सभी बिल नियमित रूप से भरते आ रहे हैं। बिजली का इतना ज्यादा लोड पर नहीं है। वह ही नहीं पूरा परिवार हैरान है कि इतना ज्यादा बिल कैसे आ गया। बिजली निगम की यह लापरवाही है तो किसी के लिए भी बहुत ज्यादा घातक साबित हो सकती है। उनको समझ नहीं आ रहा इतना भारी भरकम बिल कैसे आ गया।

राजनारायण पंघाल

अधिवक्ता भिवानी। बिजली आल्यां कै के होग्या, घणा-घणा बिल देण लाग गे बिजली आल्या कै बेरा नै के हो ग्या। ईब तै बिल बी ब्होत ज्यादा आवण लाग गे। पहल्या बिल 500 तै 700 रुपये आया करदा। बिजली का खर्चा ईब बी उतणा ए सै फेर बी बिल 3 तै 5 हजार तक आण लाग ग्या। कइयां कै तो 50 हजार तै बी ज्यादा का बिल आ रहया सै। आए म्हीनै बिजली आलै तै लोगां कै बड़ा बिल दे दे सैं। फेर बिजली आल्यां के चक्कर काटे जाओ। घर के काम करां कै बिजली आल्यां के चक्कर काटां। म्हारै तै घर म्हैं बी रोला होग्या। हम बिजली इतणी फूंका ए कोनी।

सुशील देवी, भिवानी।

निगम ने तो परेशान कर दिया, बिल ठीक करवाने को लगा रहे चक्कर

आज उनके बिल जमा कराने की अंतिम तारीख थी। बिल आमतौर से बहुत कम आता है लेकिन इस बार अचानक पांच हजार से अधिक का बिल आ गया। जबकि उनके घर का खर्च इतना ज्यादा नहीं है। अब बिल ठीक करवाने के लिए निगम आना पड़ा। यहां आने पर बताया गया कि आप अपने मीटर की री¨डग की फोटो या वीडियो लेकर आएं तो बिल ठीक कर दिया जाएगा। उनको इस बात का पता नहीं था। अब दोबारा घर निगम ने तो परेशानी बढ़ा दी है। ऐसे में निगम कर्मचारी लापरवाही न करें तो लोगो को बेवजह की परेशानी न झेलनी पड़े।

¨टकू, बिचला बाजार भिवानी।

मोबाइल पर बिल का मैसेज भेजने से पहले चेक करवाएंगे बिजली बिल भारी भरकम आने की सूचना मिल रही हैं। इस बारे में अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिए गए हैं। फिर से इस बारे में निगम कर्मचारियों अधिकारियों को सख्त किया जाएगा। अब उपभोक्ता के मोबाइल पर बिजली बिल का मैसेज भेजने से पहले सही-सही जांच करना सुनिश्चित किया जाएगा कि जो मैसेज भेजा जा रहा है वह ठीक है या नहीं। भविष्य में इस तरह की गलती न दोहराई जाए कर्मचारी अधिकारियों को निर्देश दिए जाएंगे।

एसएस सांगवान, अधीक्षक अभियंता

बिजली निगम भिवानी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस