जागरण संवाददाता, भिवानी :

राष्ट्रीय युवा दिवस पर दैनिक जागरण के समाज के समग्र विकास में युवाओं की अहम भूमिका विषय पर आयोजित संगोष्ठी में धर्म और अध्यात्म पर जोर दिया गया। रोजगार के अलावा स्वरोजगार अपनाने के लिए युवाओं को प्रेरित किया गया। युवाओं ने भी इस संगोष्ठी में गहरी दिलचस्पी दिखाई। संगोष्ठी के मुख्य वक्ता स्वामी विवेकानंद केंद्र के दशरथ सिंह चौहान ने युवाओं से स्वामी विवेकानंद के जीवन से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। इस आयोजन में चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग का भी अहम योगदान रहा। यह कार्यक्रम चौ. बंसीलाल विश्वविद्यालय में हुआ।

चौहान ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की गिनती भारत के महापुरुषों में होती है। उन्होंने भारत के लोगों का ही नहीं, पूरी मानवता का गौरव बढ़ाया। उन्होंने विश्व के लोगों को भारत के अध्यात्म का रसास्वादन कराया।

उन्होंने कहा कि 1893 में अमेरिका के शिकागो शहर में विश्व धर्म-सम्मेलन हो रहा था। शिष्यों ने स्वामी विवेकानन्द से उसमें भाग लेकर हिन्दू धर्म का पक्ष रखने का आग्रह किया। स्वामीजी कठिनाइयों को झेलते हुए शिकागो पहुंचे। उन्हें सबसे अंत में बोलने के लिए बुलाया गया। परंतु उनका भाषण सुनते ही श्रोता गदगद हो उठे। उनसे कई बार भाषण कराए गए। दुनिया में उनके नाम की धूम मच गई। इसके बाद उन्होंने अमेरिका तथा यूरोपीय देशों का भ्रमण किया। अमेरिका के बहुत से लोग उनके शिष्य बन गए।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आर के मित्तल ने कहा कि विश्वविद्यालय में शिक्षार्थियों को संस्कारी एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान की जा रही है। विश्वविद्यालय का प्रयास है कि राष्ट्र एवं समाज के विकास में युवाओं की पूर्ण सहभागिता हो। उन्होंने युवाओं से स्वामी विवेकानंद के आदर्शों को ग्रहण कर अपने अर्जित ज्ञान को मानव कल्याण पर लगाने का आह्वान किया। विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. जितेन्द्र भारद्वाज ने सभी मुख्यातिथियों का स्वागत एवं धन्यवाद किया।

उन्होंने विश्वविद्यालय द्वारा संचालित समाजिक विकास एवं चरित्र निर्माण पर विशेष कार्यक्रमों पर जानकारी दी। विश्वविद्यालय के इतिहास विभागाध्यक्ष डॉ. रविप्रकाश ने स्वामी विवेकानंद के जीवन पर विचार रखे। स्वामी विवेकानंद केंद्र से लाल बहादुर शास्त्री ने धर्म व अध्यात्म के बारे मे समझाया। उन्होंने प्रार्थना एवं विश्व शांति के लिए मंत्रोच्चारण करवाया।

कार्यक्रम में कर्मचारियों द्वारा धर्म, अध्यात्म और समाज के समग्र विकास पर युवाओं की भूमिका पर सवाल पूछे गए जिनके मुख्यवक्ता ने जवाब दिए। कार्यक्रम में शैक्षणिक कर्मचारियों से सुझाव भी मांगे। इस अवसर पर डा. सतबीर सिंह, डॉ. समुंद्र हुड्डा, पूनम शर्मा, सहायक प्रचार-प्रसार अधिकारी ऋषि कुमार, मूलराज, विवेकानंद केन्द्र से धीरज कुमार, वीएम बेचैन आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस