जागरण संवाददाता, चरखी दादरी : उपायुक्त राजेश जोगपाल ने कहा है कि जिले के प्रत्येक अधिकारी और कर्मचारी का लोगों को समय पर इलाज उपलब्ध करवाने पर ही फोकस होना चाहिए। आने वाली स्थिति को ध्यान में रखते हुए तुरंत प्रबंध किए जाएं और मरीजों को अलग रखने की व्यवस्था पर ध्यान दिया जाए।

उपायुक्त सोमवार रात वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से जिले के अधिकारियों की बैठक ले रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में जिला प्रशासन को अतिरिक्त एवं बड़े स्तर पर प्रबंध करने की आवश्यकता है। जिले के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों का फोकस अब केवल मरीजों को समय पर इलाज उपलब्ध करवाने पर होना चाहिए। पॉजिटिव आ रहे लोगों को अलग रखने की व्यवस्था की जाए। जिले के बड़े गांवों में किसी स्कूल या चौपाल जैसे सार्वजनिक स्थान पर आइसोलेशन की व्यवस्था की जाए और आसपास के संक्रमित लोगों को वहां पर रखें। ऐसे स्थानों पर संक्रमित लोगों की देखभाल और सुविधा का भी ध्यान रखा जाए। उपलब्ध जन सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए ही स्कूल एवं चौपाल इत्यादि में मरीजों को रखा जाए। कंटेनमेंट जोन में सख्ती जरूरी

उन्होंने कहा कि जिले को विभिन्न जोन में बांटकर प्रबंध करने पर भी विचार किया जा रहा है ताकि उपलब्ध संसाधनों का बेहतर तरीके से उपयोग करके जरूरतमंदों को समय पर मदद पहुंचाई जा सके। जिस क्षेत्र में कोरोना के अधिक केस आ रहे हैं उनको तुरंत कंटेनमेंट जोन घोषित करवाया जाए और सुनिश्चित किया जाए कि वहां से कोई भी व्यक्ति बाहर न आए। उपायुक्त ने सिविल सर्जन डा. सुदर्शन पंवार को निर्देश दिए कि गांव के अनुसार आइसोलेशन में रह रहे लोगों सहित अन्य मरीजों का डाटा उपलब्ध करवाएं और संबंधित एसडीएम उस डाटा के अनुसार ही अपने अपने क्षेत्र में व्यवस्था करें। ये अधिकारी रहे मौजूद

वीडियो कांफ्रेंस में एसडीएम डा. विरेंद्र सिंह, एसडीएम शंभू राठी, नगराधीश अमित मान, सिविल सर्जन डा.सुदर्शन पंवार, आइएमए जिला प्रधान डा. दीपक गुप्ता, जिला शिक्षा अधिकारी जयप्रकाश सभ्रवाल और खंड शिक्षा अधिकारी जलधीर सिंह भी शामिल रहे।