संवाद सहयोगी, तोशाम

तोशाम के एक व्यक्ति ने इंदिरा गांधी पेयजल योजना में जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर बिना फाइल तैयार किए और बिना आवेदन किए चार फर्जी कनेक्शन देने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री,मुख्यमंत्री,मुख्य न्यायाधीश को शिकायत की है। पीड़ित ने इस मामले में संलिप्त अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है। पीड़ित राजेंद्र मेघवाल ने बताया कि इंदिरा गांधी पेयजल योजना के तहत जनस्वास्थ्य विभाग ने वह और उसके तीन भाईयों के नाम से चार कनेक्शन दे दिए और चार टंकियां उनके घर पर रख दी, जबकि अन्य सामान पाइप,कनेक्शन कलेंप,4 पीवीसी कनेक्शन,4 फरूल,एल्बो,साक्ट,यूनियन आदि सामान व लेबर खर्चा रिकार्ड में दिखाकर राशि को अपने पास रख लिया। पीड़ित ने आरोप लगाया कि संबंधित अधिकारियों ने अपनी नाकामी छिपाने के लिए उनके चारों फर्जी कनेक्शनों के बिलों को स्वयं भर दिया व डिस कनेक्शन भी जमा कर उनके घरों में भेज दिया। पीड़ित ने बताया कि उन्होंने कभी भी पानी के कनेक्शन के लिए आवेदन नहीं किया और न ही इन फर्जी कनेक्शनों का बिल या डिस कनेक्शन फीस जमा करवाई है। यदि इस मामले की गहनता से जांच की जाए तो संबंधित पेयजल योजना में लाखों का घोटाला सामने आ सकता है। पीड़ित ने बताया कि वे इसकी शिकायत सीएम ¨वडों में भी कर चुके हैं। पीड़ित ने बताया कि अधिकारी झूठे तथ्य पेश कर उसकी शिकायत में दफ्तर दाखिल कर देते हैं। उन्होंने इस मामले में दोषी अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाए और सरकारी राशि को ब्याज सहित रिकवरी किया जाए।

इस बारे में संबंधित विभाग के एक्सइएन जगबीर ¨सह मलिक ने बताया कि यदि इस मामले में जो भी तथ्य हैं उन्हें सामने लाया जाएगा।

Edited By: Jagran