जागरण संवाददाता, चरखी दादरी : दादरी जिले के नौ लोगों को उपायुक्त राजेश जोगपाल के निर्देशानुसार टेस्ट के लिए लैब द्वारा लिए गए अधिक रुपये वापस दिलवाए गए हैं। पूरे प्रदेश में यह अपने आप में पहला मामला है, जहां किसी लैब से मरीज को रुपये वापस मिले हैं।

उपायुक्त ने शनिवार को इन लोगों को रेडक्रास के माध्यम से वापस मिली रकम उपलब्ध करवाई गई। उपायुक्त ने बताया कि दादरी की एक लैब द्वारा चेस्ट सीटी टेस्ट के लिए कई लोगों से निर्धारित फीस से अधिक रुपये लिए गए थे, जिसको लेकर उनके पास शिकायत आई थी। लैब संचालक को बुलाकर जब उनसे इस बारे में स्पष्टीकरण मांगा गया तो उन्होंने बताया कि टेस्ट के रेट निर्धारित करने के आदेश उन्हें शाम के समय मिले थे और वे उससे पहले ही इन लोगों के टेस्ट कर चुके थे। रेट निर्धारण के आदेश के बाद उसी अनुसार फीस ली जा रही है।

लैब संचालक ने उपायुक्त के निर्देश पर निर्धारित फीस से ज्यादा ली गई राशि को रेडक्रास में जमा करवा दिया और शनिवार को रेडक्रास के माध्यम से इन नौ लोगों को रुपये वापस कर दिए गए। 2440 के बजाय लिए थे पांच हजार रुपये

उपायुक्त ने कहा कि प्राइवेट लैब व अस्पतालों द्वारा लोगों से ज्यादा फीस लेने का मामला संज्ञान में आने पर बतौर जिलाधीश लैब और अस्पतालों में टेस्ट के रेट फिक्स कर दिए गए थे। साथ ही कोरोना के इलाज को लेकर भी प्राइवेट अस्पतालों के रेट सरकार द्वारा फिक्स हैं। उन्होंने बताया कि चेस्ट सीटी टेस्ट के लिए निर्धारित फीस 2440 रुपये है और इस लैब द्वारा नौ लोगों से पांच हजार रुपये लिए गए थे। जिसके चलते इन नौ लोगों को 2560-2560 रुपये की राशि वापस करवाई गई है। एसडीएम ने सौंपी थी रिपोर्ट

गौरतलब है कि उपायुक्त ने इस बारे में लिखित शिकायत मिलने पर गत 20 मई को एसडीएम डा. विरेंद्र सिंह को जांच के लिए लोहारू रोड स्थित लैब में भेजा था। जहां पर एसडीएम ने पिछले तीन दिनों के बिल इत्यादि दस्तावेजों की जांच कर उपायुक्त को रिपोर्ट सौंप दी थी। उपायुक्त ने एसडीएम की जांच के आधार पर लैब संचालक से स्पष्टीकरण मांगा और उन्हें संबंधित मरीजों के पैसे वापस देने के निर्देश दिए थे।

रेडक्रास के माध्यम से घर भेजे पैसे

चरखी दादरी निवासी स्वरूप सिंह व महेन्द्र, बुरा खेड़ी निवासी नरेश, सौंफ निवासी सविता, बाजीतपुर निवासी संजय, दंगड़ौली निवासी सुखीचंद, पातुवास निवास चतर सिंह और झांसवा निवासी कविता को उपायुक्त ने स्वयं लैब द्वारा ज्यादा ली गई रकम वापस की। उपायुक्त ने बताया कि दुर्भाग्य से चरखी दादरी निवासी एक महिला की मौत हो गई और रेडक्रास के माध्यम से राशि उनके घर पहुंचा दी गई है।

शिकायत मिलने पर होगी कार्रवाई

उपायुक्त ने कहा कि कोई भी लैब या अस्पताल निर्धारित फीस से अधिक रुपये लेता है तो उसके खिलाफ जिला कंट्रोल रूम के फोन नंबर 1950 और 01250-222555 पर भी शिकायत की जा सकती है। मामले संज्ञान में आते ही कार्रवाई करते हुए दोषी से पैसे वापस दिलवाए जाएंगे और उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी।

Edited By: Jagran