जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ :

शहर के बाजार अब रफ्तार पकड़ रहे हैं। दो महीने से जो कारोबार ठप था, उसको गति दी जा रही है। मौसम की डिमांड के हिसाब से दिन-रात माल की सप्लाई हो रही है। ग्राहक भी बढ़ रहे हैं। मगर खरीदारी के चक्कर में कोरोना से बचाव के उपायों का ख्याल नहीं किया जा रहा है। बहुत से लोग मास्क से परहेज कर रहे हैं और शारीरिक दूरी तो भुला ही रहे हैं। इन हालातों में चिता बढ़ रही है।

वैसे तो बहादुरगढ़ में अब तक जितने भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, उनमें से 99 फीसद ठीक होकर घर लौट चुके हैं। मगर जिस तरह लॉकडाउन में सब कुछ बंद रहते हुए भी दिल्ली से कैरी होकर कोरोना संक्रमण शहर में पहुंच गया था और सब्जी मंडी में जुटने वाली भीड़ के कारण काफी लोगों को चपेट में ले लिया था। उसी तरह का खतरा अब बाजारों में जुटने वाली भीड़ के कारण बन रहा है। उस समय तो केवल मंडी में ही भीड़ थी, मगर अब तो सभी बाजार खुले हैं। वैसे तो दो दिनों से चल रहे लू के प्रकोप के कारण बाजारों पर असर है, लेकिन सुबह व शाम के समय भीड़ ज्यादा जुट रही है। फिलहाल कपड़ों से लेकर फुटवियर, इलेक्टॉनिक की दुकानों पर ज्यादा भीड़ है। खरीददारी तो हर तरह की दुकान से हो रही है लेकिन मौसमी बाजार अब धीरे-धीरे गर्म हो रहा है, तो वहां लोगों की मौजूदगी ज्यादा है। बाजारों में नहीं दिख रही शारीरिक दूरी

लॉकडाउन खुलते ही लोग घरों से निकल रहे हैं। बाजारों में घूम रहे हैं। दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ के बीच शारीरिक दूरी नहीं दिख रही। दुकानदार भी इससे परहेज कर रहे हैं। वहां पर शारीरिक दूरी के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि इस तरह की बेफिक्री घातक हो सकती है। सभी को सावधानी बरतनी चाहिए। इस समय बच्चों और बुजुर्गो को तो बिल्कुल घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस