संवाद सहयोगी, बराड़ा

स्थानीय सामुदायिक केंद्र में मंगलवार दोपहर डेरा सलेमपुर गांव निवासी एक महिला की सामान्य डिलीवरी होने के बाद रक्तस्त्राव के कारण तबीयत बिगड़ गई। डॉक्टर ने महिला को तुरंत एमएम अस्पताल मुलाना में रेफर कर दिया। वहां इलाज के दौरान डॉक्टरों ने महिला की बच्चादानी निकाल दी लेकिन इसके बाद भी तबीयत में कोई सुधार नहीं होने पर देर रात करीब 2 बजे महिला की मौत हो गई। हालांकि उसके पास हुआ बच्चा बिलकुल स्वस्थ है। बुधवार को महिला के परिजन सीएससी बराड़ा से उसकी डिलीवरी रिपोर्ट लेकर थाने में पहुंच गए और हंगामा कर दिया। इसके बाद एसएमओ व संबंधित डॉक्टर भी थाने में पहुंचे और काफी देर दोनों पक्षों के बीच पुलिस के सामने कहासुनी चलती रही। हालांकि बाद में दोनों पक्षों के बीच आपसी समझौता हो गया और इसके बाद मृतक महिला का संस्कार किया जा सका।

हुआ यूं कि महिला मंगलवार सुबह करीब पौने सात बजे सीएचसी में दाखिल करवाई गई थी। दोपहर साढ़े 12 बजे सामान्य डिलीवरी के दौरान लड़का पैदा हुआ। जन्म के बाद बच्चा रोया नहीं तो डॉक्टर ने चेक किया। उसके गले में कुछ फंसा हुआ था जिसे डॉक्टर ने साफ किया तो बच्चा रोने लग गया। इसके बाद बच्चे को महिला ने दूध पिलाया और कुछ देर बाद ही उसका रक्तस्त्राव शुरू हो गया। डॉक्टर ने उसे एमएम अस्पताल में रेफर कर दिया जहां देर रात करीब 2 बजे इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई। इसके बाद महिला के परिजन सीएचसी में पहुंचे और उसकी सारी रिपोर्ट फाइल अपने साथ लेकर थाने में पहुंचे। यहां कहासुनी के बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया और तब जाकर मामला शांत हुआ। थाना प्रभारी के मुताबिक पुलिस को कोई लिखित शिकायत नहीं दी गई थी।

Posted By: Jagran