जागरण संवाददाता, अंबाला

छावनी से सटे पंजाब के हंडसेरा इलाके में शुक्रवार सुबह स्कूली बच्चों को लेकर आ रही निजी गाड़ी के आगे अचानक कुत्ता आ गया। कुत्ते को बचाने के चक्कर में गाड़ी का संतुलन बिगड़ गया और सड़क पर गड्ढे में टायर जाते ही बच्चों से भरी गाड़ी पलट गई। स्कूली बच्चों की चीखे निकली तो आसपास स्थित लोगों की मौके पर भीड़ एकत्रित हो गई और बामुश्किल बच्चों को बाहर निकाला गया। यूकेजी क्लास की परनीत कौर, हर्षबीर ¨सह, सत¨वद्र कौर और परमजीत को चोट लगी जिन्हें मिलिट्री अस्पताल में ले जाया गया लेकिन परनीत कौर की हालत गंभीर होने के कारण उसे चंडीगढ़ पीजीआइ रेफर कर दिया।

जानकारी के मुताबिक रोजाना की तरह क्वालिस चालक स्वर्ण ¨सह शुक्रवार सुबह भी पंजाब क्षेत्र में स्थित अलग-अलग गांवों के बच्चों को लेने के लिए गया था। इस गाड़ी में कुल 11 बच्चे थे। यह सभी बच्चे छावनी के सेनाक्षेत्र स्थित आर्मी पब्लिक स्कूल में पढ़ाई करते है। अधिकतर बच्चों की उम्र भी 4 से 10 साल के बीच में ही थी। जब यह गाड़ी हंडेसरा से ¨सहपुरा रोड से होते हुए अन्य बच्चों को लेकर स्कूल में आ रही थी तो इसी दौरान बीच रास्ते में अचानक गाड़ी के आगे एक कुत्ता आ गया। कुत्ते की जान बचाते-बचाते चालक गाड़ी का संतुलन खो बैठा और एक टायर सड़क पर गड्ढे में जाते ही बच्चों से भरी गाड़ी पलट गई। गाड़ी में बैठे बच्चों की चीखे निकल गई और मौके पर अन्य लोगों की भीड़ लग गई। किसी तरह बच्चों को बाहर निकाला गया जिनमें चार को अधिक चोट लगी होने के कारण मिलिट्री अस्पताल में ले जाया गया। सूचना मिलते ही स्कूल प्रबंधन व बच्चों के परिजन भी अस्पताल में पहुंचे। इस हादसे में परनीत कौर (10 वर्षीय) को एक बाजू, हाथ, टांग और सिर में अधिक गहरी चोट लगी। प्राथमिक उपचार के तुरंत बाद उसे चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया। हालांकि हर्षबीर ¨सह के सिर में भी चोट लगने के कारण टांके लगाए गए। वहीं अन्य घायल बच्चों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। वहीं हंडेसरा थाना पुलिस इस मामले में कार्रवाई कर रही है और उन्होंने हादसे में क्षतिग्रस्त हुई गाड़ी को भी अपने कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Posted By: Jagran