जागरण संवाददाता, अंबाला : कोरोना की जीत चुके मरीजों में अब तहत तरह की समस्याएं जकड़ने लगी है। ऐसे रोगियों के लिए स्वास्थ्य विभाग ने नागरिक अस्पताल छावनी में उमंग आउटडोर पेशेंट डिपार्टमेंट (ओपीडी) शुरू किया है। ओपीडी में डा. अल्पना कौशल को लगाया गया है। 8 जून से शुरू इस ओपीडी में रोजाना 5 से 10 ऐसे मरीज पहुंच रहें जो पैरों, हड्डियों और शरीर में दर्द से लेकर अनिद्रा व सांस लेने में तकलीफ होने की बात डाक्टर को बता रहें हैं। मरीज के बताए लक्षण के आधार पर अस्पताल में संबंधित विशेषज्ञ के पास उमंग ओपीडी की पर्ची सहित मरीज को रेफर किया जा रहा है।

डा. अल्पना कौशल ने बताया कि उमंग ओपीडी शुरू हुए अभी चार दिन हुए हैं, पहले दिन 5 मरीज और इसके बाद अब यह संख्या बढ़कर दस हो चुकी है। यहां आने वाले ज्यादातर मरीज पैर, हड्डियों में दर्द से लेकर सांस लेने में तकलीफ होने या फिर अनिद्रा की शिकायत कर रहे हैं। मरीज के बताए लक्षण के मुताबिक संबंधित विशेषज्ञ के पास भेजा जा रहा है।

---------------- सांस लेने में आ रही है दिक्कत

पोस्ट कोविड ओपीडी में आने वाले मरीजों में से पांच-छह ऐसे होते हैं, जिन्हें अब सांस लेने में तकलीफ होती है। ऐसे मरीजों को फिजियोथेरेपी विभाग एक्सरसाइज करने की सलाह दे रहा है। करीब दस मिनट तक मरीजों को एक्सरसाइज करवाई भी जाती हैं और उन्हें घर पर हर रोज करने के तौर-तरीके भी बताए जा रहे हैं। वहीं कुछ मरीजों की ओर से शरीर में कमजोरी आने की शिकायत भी की जा रही है।

------------- नहीं निकल रहा मन से भय

कोरोना की जंग जीतने के बावजूद भी कुछ मरीजों के मन से भय नहीं निकल रहा है। उपचार के दौरान अस्पताल में जिन मरीजों के समक्ष दूसरे संक्रमितों की मौत हुई है, ऐसे मरीजों के मन में एक भय बना हुआ है। मनोरोग विभाग के चिकित्सक डा. कुलदीप इनकी काउंसिलिग कर रह रहे हैं ताकि उन्हें इस स्थिति से उबारा जा सके। डा. कुलदीप कहते हैं कि ऐसे मरीजों को पारिवारिक सहानुभूति की आवश्यकता है। कुछ दिनों तक परिवार के लोगों को ऐसे मरीजो की उचित देखभाल करनी चाहिए।

-------- पोस्ट कोविड ओपीडी यानी उमंग सेंटर में आने वाले मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा देने की व्यवस्था की गई है। ताकि किसी भी मरीज को परेशानी न हो। साथ ही सभी चिकित्सकों को उमंग सेंटर की चिकित्सक के संपर्क में रहकर पोस्ट कोविड मरीजों का उपचार करने को कहा गया है।

- डा. विनय गोयल, डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट अंबाला छावनी।

Edited By: Jagran