जागरण संवाददाता, अंबाला : ब्रह्माकुमारी प्रेम बहन ने कहा कि इंसान की आंतरिक शक्ति क्षीण हो चुकी है। यदि हम अब भी नहीं जागे तो देर हो जाएगी। वे अंबाला छावनी की डिफेंस कालोनी में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरी विश्वविद्यालय की शाखा में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहीं थीं। इस दौरान नवनिर्मित राजयोग भवन का उद्घाटन भी किया गया। कार्यक्रम में अंबाला सब जोन दयाल बाग के इंचार्ज राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी कृष्णा बहन और आशा बहन के कर कमलों द्वारा किया गया। मंच का संचालन राजयोगिनी बीके बहन शैली ने किया।

फरीदकोट से आईं बीके प्रेम ने कहा कि भारत सोने की चिड़िया था, जहां पर देवता निवास करते थे अब इसकी क्या दशा हो गई है। हमारी आत्मा की आंतरिक शक्ति क्षीण हो गई है। इस घोर कलयुगी दुनिया में जब-जब धर्म की हानि होती है तब-तब परमपिता परमात्मा इस धरा पर आते हैं और राजयोग का सच्चा सच्चा ज्ञान हम मनुष्यों को देकर फिर से स्वर्णिम युग की स्थापना करते हैं। उन्होंने कहा कि ये मनुष्य जन्म हीरे तुल्य है देखना यह है कि कहीं हम इस जीवन को कौड़ी तुल्य तो नहीं गंवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजयोग जो हमें परम सत्ता के साथ मिलन करवाता है। रायपुररानी से पधारे राजयोगिनी बीके किरण ने एक गीत की प्रस्तुति द्वारा सभी का मन मोह लिया। इस मौके पर शाहाबाद से बीके नीति सहित एडवोकेट नम्रता गौड़ सदस्य महिला राज्य आयोग हरियाणा, इंद्र देव गुप्ता प्रधान रोटरी क्लब, कर्नल आरडी सिंह, राजेंद्र विज, रोहित जैन अध्यक्ष बार एशोसिएशन अंबाला, बीके पायल, कुमारी माही आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप