जितेंद्र अग्रवाल, अंबाला शहर

ट्विन सिटी के केबल ऑपरेटर उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के अधिकारियों की मिलीभगत से सरकार को लाखों रुपये साल का चूना लगा रहे हैं लेकिन आला अधिकारी आंख और कान सब बंद करके बैठे हुए हैं। भारी भरकम घाटे का रोना रोकर अकसर बिजली के दाम बढ़ाने वाला निगम केबल आपरेटरों पर क्योंकर मेहरबान है, यह जांच का विषय है।

मिलीभगत का इससे बड़ा नमूना कोई नहीं हो सकता कि टिवन सिटी में मौजूद करीब 40 पोल में से निगम मात्र 10 खंभों के ही चार्ज वसूल कर अपनी जिम्मेवारी को पूरा कर रहा है। इन 10 खंभों का चार्ज भी तब वसूला गया जब केबल आपरेटर से परेशान एक नागरिक हाथ धो कर बिजली विभाग के पीछे पड़ गया और उसने सूचना अधिकार के तहत जानकारी मांग ली। निगम कितने आपरेटरों से कितने खंभों का कितना किराया वसूल रहा है, इसके बारे में विभाग से कोई अधिकृत जानकारी नहीं मिल पाई लेकिन एक पत्र दैनिक जागरण के हाथ लगा है जिसमें सेक्टर-10 हाउ¨सग बोर्ड में केबल आपरेटर द्वारा एसडीओ को 19 जुलाई 2016 को ही 4 हजार रुपये का ड्राफ्ट भेजा गया है। मसलन मात्र 10 खंभों का वार्षिक किराया और संबंधित अधिकारी ने भी उसे बिना किसी जांच या हिचक के जमा कर मामले का पटाक्षेप कर दिया। यह जांच का विषय है कि संबंधित क्षेत्र में केबल आपरेटर क्या मात्र 10 खंभों का ही इस्तेमाल कर रहा है हालांकि ऐसा किसी भी सूरत में संभव ही नहीं है।

...........................

करीब 40 हजार खंभे लगे

अंबाला शहर क्षेत्र में 20 हजार से कुछ अधिक तथा छावनी अर्बन क्षेत्र में साढ़े 18 हजार से अधिक बिजली के खंभों के माध्यम से निगम लोगों को बिजली आपूर्ति करता है। इनमें से 80 प्रतिशत से अधिक खंभों का प्रयोग केबल आपरेटर कर रहे हैं। बिजली के खंभों के माध्यम से ही वे केबल वायर दूर दराज के क्षेत्र तक ले जाते हैं और घरों व दुकानों पर केबल चलाने का काम कर रहे हैं।

वर्ष 2007 से किराया बढ़ाकर कर दिया गया था 400 रुपये प्रति खंभा

उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम ने 7 जनवरी 2002 को केबल वायर गुजारने के लिए बिजली के खंभो के इस्तेमाल के लिए नियम बनाए थे। प्रत्येक केबल आपरेटर से 2004-06 तक प्रति वर्ष प्रति खंभा 375 रुपये का किराया वसूला जाना चाहिए था लेकिन 2006-07 से इसे बढ़ाकर 400 रुपये प्रति खंभा प्रति वर्ष तय कर दिया गया। हाल ही में 26 जून को एक बार फिर मुख्यालय से जेई स्तर तक के अधिकारियों को इस वसूली को कहा गया है।

सभी एक्सईएन को अपने क्षेत्र में कार्रवाई को कहा

निगम के अधीक्षक अभियंता वीके खुराना ने बताया कि मामला संज्ञान में आने पर सभी कार्यकारी अभियंताओं को अपने-अपने क्षेत्र में केबल आपरेटरों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे खंभों का किराया वसूलने को कहा गया है। निकट भविष्य में कार्रवाई के आंकड़े सामने आ जाएंगे। किसी अधिकारी ने 10 खंभों के पैसे ही क्यों जमा करवा लिए इस बारे में भी जांच करवाई जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस