जागरण संवाददाता, अंबाला शहर :

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के स्वयं सेवकों ने एसए जैन स्कूल में वर्ष प्रतिपदा उत्सव धूमधाम से मनाया। इस अवसर पर स्वयं सेवकों ने संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार को आध्य सरसंघचालक प्रणाम किया। आज के ही दिन संघ के संस्थापक डॉ. का जन्मदिवस भी है। सभी स्वयं सेवक एक बार सरसंघ चालक को वर्ष प्रतिपदा के दिन प्रणाम करते हैं। इस अवसर पर संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार, जिला संघ चालक अशोक, संघ चालक राधाकृष्ण उपस्थित रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता सेवानिवृत कर्नल मान ¨सह ने की। मान ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अनुशासन की प्रशंसा की। नगरकार्यवाह विवेक गुप्ता, राकेश गोयल, सुरेंद्र मित्तल, दीपक शर्मा, महेश, सुरेंद्र खुराना विशेष रूप से उपस्थित रहे। अरुण ने कहा कि भारतीय समाज के पतन के कारण आत्म विस्मृति के कारण आत्मविश्वास के खोने को बताया। आत्मविश्वास न होने के कारण हम सभी की ¨नदा करने लगे। उन्होंने कहा कि भारतीय काल गणना का उदाहरण देते कहा कि यह अंग्रेजी काल गणना से हर दृष्टि से श्रेष्ठ है। भारतीय भाषाओं के विषय को गंभीरता से उठाते हुए अरुण ने कार्यक्रम में कहा कि आने वाले समय में मातृ भाषा का महत्व और गति पकड़ेगा। प्रगति के मार्ग पर अपनी भाषा के माध्यम से ही निर्बाध रूप से बढ़ा जा सकता है। संघ के राष्ट्रीय अधिवेशन की चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि मातृ भाषाओं को लेकर इस बार कार्यक्रम में प्रस्ताव को पारित किया गया है जो हिन्दी सहित अन्य भारतीय भाषाओं के संवर्धन में महत्वपूर्ण रूप से कार्य करेगा। विख्यात वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु का उल्लेख करते हुए अरुण ने बताया कि उन्होंने अपने जीवन भर की सारी कमाई भारतीय भाषाओं में विज्ञान की खोज को बढ़ावा देने के लिए समर्पित कर दी थी। इस प्रकार की निष्ठा की आज के सन्दर्भ में बेहद आवश्यकता है। अंग्रेजी और अन्य विदेशी भाषाओं के माध्यम से किया गया वैज्ञानिक शोध मात्र नकल ही कहलाएगा। अपने देश की भाषा के माध्यम को अपना कर की गई खोज और शोध को ही भारतीय मूल्यों की जीत माना जाना चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस