संवाद सहयोगी, नारायणगढ़ : उच्चतर शिक्षा विभाग की ओर से शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए बढ़ाई गई फीस के विरोध में अम्बेडकर युवा मंच के स्टूडेंट्स विग ने मंगलवार को प्रदर्शन कर शिक्षा मंत्री के नाम एक ज्ञापन प्रशासन को सौंपा। फीस बढ़ोतरी को तुरंत वापस लेने की मांग की। प्रदर्शन का नेतृत्व स्थानीय महाविद्यालय की छात्र संघ की प्रधान निशिता ने किया। छात्र-छात्राओं ने सरकार के इस निर्णय को तानाशाही व शिक्षा के बुनियादी अधिकार के खिलाफ बताया।

शिक्षा मंत्री के नाम सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि प्रदेश के सभी सरकारी महाविद्यालयों की फीस में लगभग 100 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर दी गई है, पिछले वर्ष जो फीस क्रमश: बीए, बीकॉम तथा बीएससी के लिए लगभग 4300, 4700 व 5 हजार रुपये थी वह अब बीए के लिए 7800 व बीकॉम तथा बीएससी के लिए 8 हजार रुपये कर दी गई है। ज्ञापन में कहा गया है कि प्रदेश की अधिकतर आबादी छोटी जोत वाले किसानों व मजदूरों की है जो इतनी फीस वहन नहीं कर सकते। फीस बढ़ोतरी का यह फैसला आबादी के एक बढ़े हिस्से को शिक्षा से दूर कर देगा।

घोटाले का पर्दाफाश करने वाले अधिकारी का तबादला हो रद

ज्ञापन में छात्रवृति घोटाले का जिक्र करते हुए शिक्षा मंत्री से मांग की गई है कि लगभग 15 करोड़ के इस घोटाले की जांच रिटायर्ड जज से कराई जाए व इस बड़े घोटाले का पर्दाफाश करने वाले आईएएस अधिकारी संजीव वर्मा का तबादला रद्द करके उन्हें पुन: अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा कल्याण विभाग में लगाया जाए। इसके अतिरिक्त पिछले सत्र की छात्रवृति भी तुरन्त दी जाए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप