जागरण संवाददाता, अंबाला: छावनी के नागरिक अस्पताल में इमरजेंसी वार्ड के मुख्य गेट पर बना रैंप मरीजों व तीमारदारों के लिए आफत बन चुका है। रैंप पर लगे पत्थर पर फिसलन इतनी है कि इमरजेंसी में प्रवेश करते व्यक्ति को गिरने का खतरा रहता है। शनिवार को छह माह की गर्भवती पूजा विहार निवासी ममता अपने परिजनों के साथ बाहर निकलने लगी तो अचानक पैर फिसल गया। दर्द से कहराती महिला को मौजूदा लोगों की मदद से उठाकर इमरजेंसी वार्ड में दाखिल करवाया। प्राथमिक जांच के बाद बच्चा तो ठीक है, लेकिन महिला के सिर में अंदरुनी चोट लगने के कारण उसे अस्पताल में दाखिल करवा दिया। ममता का कहना था कि वह अस्पताल में उपचार करवाकर घर जाने लगी थी। गेट पर आते ही रैंप पर उसका पैर फिसल गया। स्टाफ सदस्यों की मानें तो रैंप से फिसलने का पहला या दूसरा मामला नहीं है। कई बार मरीज तक गिरकर चोटिल हो चुके हैं। बावजूद अस्पताल प्रबंधन द्वारा इस रैंप की मरम्मत करवाना उचित नहीं समझा। जो हादसों को न्योता दे रहा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप