जागरण संवाददाता, अंबाला शहर : नई सब्जी मंडी के पिछले गेट के पास बने शेड के नीचे स्थानांतरित किए जाने और किराये में वृद्धि से खफा रेहड़ी-फड़ी संचालक लामबंद होने लगे हैं। रेहड़ी-फड़ी संचालकों ने किराया घटाए जाने व पहले गेट के पास पुरानी जगह पर स्थानांतरित किए जाने की मांग को लेकर शुक्रवार को नई सब्जी मंडी में नारेबाजी की। इसके बाद मार्केट कमेटी सचिव आशा व डीसी शरणदीप कौर बराड़ को अपनी मांग के समर्थन में ज्ञापन सौंपा। इतना ही नहीं सीएम ¨वडो पर शिकायत कर मुख्यमंत्री से भी हस्तक्षेप की मांग की। हालांकि, डीसी ने इस मामले में हल निकालने के लिए आश्वस्त किया है।

इस मौके नई सब्जी में फड़ी लगाने वाले देवेंद्र, रमेश, धीरज, अमरपाल, ओमपाल व महादेव आदि ने बताया कि नई सब्जी मंडी बनने के बाद उन्हें पुरानी सब्जी मंडी से स्थानांतरित कर नई सब्जी मंडी में रेहड़ी लगाने की जगह दी। जहां वह लंबे समय से मंडी के प्रवेश द्वार वाले गेट के पास रेहड़ियां लगा रहे थे।

इस एवज में मार्के¨टग बोर्ड को 900 रुपये प्रति माह देते थे। अब करीब तीन माह पहले उन्हें शेड में शिफ्ट कर दिया गया। यहां शेड के नीचे उन्हें 6 गुणा 6 की जगह के साथ एक बिजली का प्वाइंट दिया गया। जगह बेहद कम थी और फड़ी लगाने को जगह कम पड़ रही थी। जिसके चलते उन्हें दो-दो काउंटर लेने पड़े। अब किराया 900 के बजाय 1800 रुपये हो गया। हालांकि, दो महीने बाद मार्के¨टग बोर्ड ने यह किराया प्रति काउंटर 1500 रुपये कर दिया गया। अब सीधे सीधे दो काउंटर की एवज में 3 हजार रुपये हो गए। चूंकि, शेड मंडी के पीछे के गेट के पास है तो यहां उनका काम ठप होकर रह गया। वहीं, पुरानी सब्जी मंडी में अब फिर रेहड़ियां लग रही हैं जिससे मंडी में ग्राहक आ ही नहीं रहा है।

रेहड़ी फड़ी संचालकों के मुताबिक पुरानी सब्जी मंडी में रेहड़ियां बंद कराई जाएं। साथ ही उन्हें पुरानी जगह पर पुराने किराए के हिसाब से रेहड़ी लगाने दी जाएं।

Posted By: Jagran