जागरण संवाददाता, अंबाला: गांधी मैदान में रेहड़ी-फड़ी मार्केट के अंदर लगने वाले मंडे बाजार में स्टॉल लेना है तो राशन कार्ड दिखाना होगा। नगर परिषद ने मंडे बाजार में स्टॉल लेने को लेकर होने वाली मारामारी को देखते हुए विकल्प निकाला है ताकि बाजार में एक परिवार को एक ही स्टॉल मिल सके। जबकि दूसरे शहरों से यहां आकर स्टॉल लगाने वालों की संख्या में कटौती लाने के लिए नपा स्थानीय लोगों को प्राथमिकता देगा। जो स्टॉल बचेंगे उनमें से ही दूसरे शहरों से आने वालों को जगह दी जाएगी। साथ ही एक स्टॉल पर दो टेबल लगाने की अनुमति दी जाएगी। बता दें कि मंडे बाजार गांधी मैदान में लगता आ रहा था। जगह खुली होने के कारण सभी जगह-जगह स्टॉल लगा लेते थे। मैदान में साइकिल ट्रैक का काम शुरू होने के बाद उसे रेहड़ी-फड़ी मार्केट में शिफ्ट कर दिया गया था। स्टॉलों की संख्या ज्यादा होने के कारण 25 नवंबर को मंडे बाजार में काफी हंगामा हुआ था। स्टॉल को लेकर लोगों के बीच लड़ाई-झगड़ा तक हो चुका था। नप की टीम ने गंभीरता से जांच की तो पता चला कि एक ही परिवार से कई सदस्य अलग-अलग जगह खड़े होकर स्टॉल खरीद लेते थे। जिन्हें वह दूसरे शहर से आने वालों को बेच दिया करता थे। इस धांधलीबाजी को रोकने व सभी को स्टॉल देने के लिए यह नियम तैयार किए है।

---------------

मंडे बाजार में करीब चार सौ स्टॉल की जगह है। अबकी बार गांधी मैदान में स्टॉल लगने नहीं दिए जाएंगे। जिसे स्टॉल चाहिए वह अपना राशन कार्ड दिखाएगा और दो सौ रुपये की पर्ची काटने के बाद उसे दो टेबल लगाने की जगह दे दी जाएगी। स्टॉल वितरण में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता पर रखा जाएगा।

सुरिद्र राणा, नगर परिषद कर्मी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस