जागरण संवाददाता, अंबाला :

मौसम का मिजाज सोमवार सायं अचानक बदल गया। नतीजा 60 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवा चलने लगी और देखते ही देखते वह आंधी का रूप अख्तियार कर लिया। आंधी के साथ बरसात ने मौसम को तो खुशनुमा कर दिया। जिले में शहर से लेकर ग्रामीणांचल में बिजली आपूर्ति के लगे खंभे टूटने के साथ ट्रांसफार्मर या तो खराब हो गए अथवा उसके जंफर जल गए। रविवार और सोमवार के बीच बिजली के 105 खंभे और 15 ट्रांसफार्मर खराब हो गए।

इस वजह से अंबाला शहर, छावनी, केसरी सहित अन्य ग्रामीण इलाकों की बत्ती गुल हो गई। लगातार करीब छह से आठ घंटे तक आपूर्ति ठप रही। एक साथ अचानक बिजली के खंभे और तार टूटने से लेकर ट्रांसफार्मर खराब होने की शिकायतें विभाग के कंट्रोल रूम से लेकर एसडीओ और एक्सइएन तक पहुंचने लगी। बिजली निगम ने आपूर्ति बहाल करने के लिए तुरंत टीमें बनाकर मरम्मत कार्य के लिए रवाना कर दिया। मरम्मत और सुधार कार्य में आठ से 10 घंटे लगे और तब जाकर विद्युत आपूर्ति बहाल हो सकी। अभी भी जिले के कई गांवों में बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी है क्योंकि वहां खंभे और टूटे तार को बदलने का कार्य चल रहा है।

--------------

पूरी रात ब्लैक आउट रहा जिला

आंधी और पानी की वजह से पूरा जिला रात भर ब्लैक आउट रहा। मंगलवार सुबह के बाद से अलग अलग क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति बहाल होनी शुरू हो गई। कई स्थानों पर तो सायं तक बिजली आपूर्ति नहीं हो सकी।

--------------

धूलकोट स्टोर से 50 खंभे भेजे

तेज हवा और बरसात की वजह से टूटे खंभों को बदलने का काम चल रहा है, शहर के धूलकोट स्टोर से 50 खंभे बदलने के लिए भेजे गए हैं। अंबाला शहर और छावनी डिवीजन के क्षेत्रों में अभी भी कई जगह मरम्मत कार्य चल रहा है।

Edited By: Jagran