अंबाला [दीपक बहल]। रेलवे के तीन सेक्शन के स्ट्रक्चर्स में हुए स्टील घोटाले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) को सौंप दी गई है। जांच हाथ में आते ही सीबीआइ ने जम्मू के मनवाल स्थित अस्थायी डिपो में छापामारी की। जांच टीम ने वहां रखे स्ट्रक्चर्स का वजन भी कराया। इस दौरान रेलवे विजिलेंस और रेल विभाग के आला अधिकारी भी मौजूद रहे।

सीबीआइ की प्रारंभिक जांच में भी स्टील  कम होने की बात सामने आई है। हालांकि, इलाहाबाद स्थित केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) की विजिलेंस टीम इस घोटाले की पहले से जांच कर रही हैं। इंस्पेक्टर सुखविंद्र सिंह के नेतृत्व में सीबीआइ की टीम जब मनवाल स्थित अस्थायी डिपो पहुंची तो तीन सेक्शन का स्ट्रक्चर्स का कुछ सामान वहां मिला। इसमें पठानकोट-जम्मू, जम्मू से ऊधमपुर और ऊधमपुर से कटरा सेक्शन में उपयोग किया जाने वाला सामाना था।

टीम ने अपने सामने सामान का वजन कराया। ऊधमपुर-कटरा में उपयोग किए गए स्टील का वजन तय मानक से कम पाया गया है। दैनिक जागरण ने 24 फरवरी के अंक में 'अफसरों ने दांव पर लगा दी यात्रियों की सुरक्षा, खंभों में घटाया स्टील' शीर्षक से करोड़ों के घोटाले का पर्दाफाश किया था।

तीन साल पहले कोर तक पहुंचा था मामला

अंबाला स्थित विद्युतीकरण कार्यालय से जम्मू से ऊधमपुर, ऊधमपुर से कटरा व गाजियाबाद से मुरादाबाद के तीन अलग सेक्शन में अलग-अलग कंपनियों को विद्युतीकरण का टेंडर अलॉट किया था। रेलवे विद्युतीकरण के दौरान उपयोग किए जाने वाले स्ट्रक्चर्स (ट्रैक के साथ-साथ लगाए जाने वाले खंभे और ढांचे जो बिजली के तारों को सपोर्ट करते हैं) में कंपनियों ने स्टील का वजन तय मानक से 13 से 15 फीसद कम करके लगा दिया।

मैटेरियल रिसीव सर्टिफिकेट (एमआरसी) पर प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों ने हस्ताक्षर कर कागजों में ही वजन पूरा कर दिया। करीब तीन साल पहले मामला कोर तक पहुंचा जिसकी जांच विजिलेंस कर रही थी। अब मामला सीबीआइ के हाथों में पहुंच गया है।

अंबाला से सभी फाइलें ले जा चुकी है विजिलेंस

इलाहाबाद स्थित केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) की विजिलेंस इस घोटाले से संबंधित सभी फाइलें अंबाला स्थित सीपीडी कार्यालय से पहले ही लेकर जा चुकी है। यहां तक की स्ट्रक्चर्स का सामान सप्लाई करने वाली कंपनियों से भी जवाब तलब किया जा चुका है, ङ्क्षकतु न तो किसी कंपनी को ब्लेक लिस्ट किया गया और न ही किसी अफसर पर कोई कार्रवाई की गई।

इस संबंध में कुछ नहीं बता सकते : सीपीडी

चीफ प्रोजेक्ट डायरेक्टर (रेल विद्युतीकरण) अंबाला ने कहा कि वे इस मामले में कुछ नहीं बता सकते। मामले की जांच की जा रही है।

वजन कराया गया : सीबीआइ

सीबीआइ के एक अधिकारी ने छापामारी की पुष्टि करते हुए कहा कि अभी जांच चल रही है। किसी के भी खिलाफ अभी तक केस दर्ज नहीं किया गया है। मनवाल डिपो में सामान का वजन कराया गया है।

यह भी पढ़ेंः आधार कार्ड बनवाने के लिए एफिडेविट भी होगा मान्य

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस