अंबाला,जागरण संवाददाता। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) के आयुष्मान कार्ड विहीन परिवारों को कार्ड उपलब्ध कराने के लिए अभियान चलाया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग ने अंबाला में करीब 1.14 लाख लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाए हैं। जबकि जिले में 3 लाख 12 हजार लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाए जाने हैं। अब तक लगभग 20 प्रतिशत लाभार्थियों का ही गोल्डेन कार्ड बनाया जा सका है। जिले में लगभग 56 प्रतिशत ऐसे लाभार्थी परिवार हैं, जिनमें परिवार के एक भी सदस्य का कार्ड नहीं बन सका है।

आयुष्मान योजना के लक्षित लाभार्थियों की एक बड़ी संख्या है जो योजना के संचालन के लगभग दो साल बाद भी इसके लाभ से वंचित हैं। इसे देखते हुए आयुष्मान पखवाड़ा चलाया गया है। जिसमें लक्षित परिवारों को योजना के प्रति जागरूक करते हुए उन्हें आयुष्मान कैंप तक लाने व परिवार के ज्यादा से ज्यादा लोगों का कार्ड बनवाने का प्रयास किया जा रहा है। अभियान में ऐसे परिवारों को लक्षित किया जाएगा, जिनके पास एक भी कार्ड नहीं है।

5 लाख तक का होता है निःशुल्क इलाज

योजना के लाभार्थी परिवार का एक साल में 5 लाख तक निःशुल्क इलाज होता है। इसके लिए लाभार्थी के पास आयुष्मान कार्ड होना अनिवार्य है। योजना में शामिल सरकारी व निजी अस्पताल में इलाज की सुविधा पूरे देश में मिल रही है।

टास्क फोर्स का किया जाएगा गठन

जनपद स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया जाएगा। इसमें विभागों के नोडल आफिसर को शामिल किया जाएगा। टास्क फोर्स द्वारा अभियान के दौरान कार्ड बनाने की प्रगति का नियमित अनुश्रवण किया जाएगा। विभिन्न विभागों के फील्ड वर्कर्स क्षेत्रीय आशा के साथ समन्वय स्थापित कर लक्षित परिवारों को कैंप तक लाने में सहयोग प्रदान करेंगे। कार्ड बनाने में कामन सर्विस सेंटर का सहयोग लिया जाएगा।

इन अस्पतालों में आयुष्मान के लाभार्थियों का फ्री इलाज

नागरिक अस्पताल शहर और छावनी के अलावा जिले में आयुष्मान योजना में 26 निजी चिकित्सालय और सरकारी अस्पताल हैं। इसमें मुलाना मेडिकल कालेज, मिशन अस्पताल, जसपाल नर्सिंग होम, छावनी नागरिक अस्पताल, नागरिक अस्पताल शहर, छावनी अस्पताल आदि पैनल में हैं। यहां पर कार्ड धारकों का फ्री इलाज होता है।

Edited By: Anurag Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट