जागरण संवाददाता, अंबाला शहर

पुलिस कमिश्नर क्राइम ब्रांच गुरुग्राम और आरबीआइ डायरेक्टर बनकर अंबाला शहर निवासी एक व्यक्ति से 15 लाख रुपये की ठगी कर ली। आरोपित व्यक्ति तरह-तरह के बोनस और लालच देकर शहर निवासी सुरेश कुमार से अपने खातों में राशि ट्रांसफर कराते रहा। आरोपितों ने अलग-अलग बैंकों में अपने आकउंट नंबर भी नाम में थोड़ा बहुत बदलाव कर खोल रखे थे।

पुलिस को दी शिकायत में न्यू मॉडल टाउन कालोनी अंबाला शहर में रहने वाली अनुजा जैन ने बताया कि एक गैंग ने उसके पिता को तरह-तरह के आश्वासन में लेकर करीब 15 लाख रुपये की ठगी कर ली। अनुजा ने बताया कि सबसे पहले अनिल कुमार राव नाम के व्यक्ति का फोन आया और उसने उसके पिता सुरेश कुमार को अपनी पहचान पुलिस कमिश्नर क्राइम ब्रांच गुरुग्राम बताया। इतना ही नहीं आरोपित ने खुद की पहचान आइआरडीए और आरबीआइ के उच्चाधिकारियों को भी बताई। साथ ही अलग-अलग फर्जी अधिकारियों से बात भी करवाई। इस तरह सुरेश कुमार बहकावे में आ गए और अधिक बोनस व अन्य लालच पाने के चक्कर में अनिल कुमार के अलग-अलग खातों में पैसे ट्रांसफर करते रहे। पीड़ित व्यक्ति को ठगी का पता उस समय लगा जब सारी पूंजी खो दी थी। ऐसे ट्रांसफर हुई राशि

सुरेश कुमार ने उसके अनिल कुमार राव के आइसीआइसी बैंक अकाउंट नंबर में कई बार एनइएफटी करवाई। इसके बाद फिर रचित शर्मा के बैंक अकांउट जोकि भारतीय महिला बैंक नोयड़ा सेक्टर 51 में हैं, में एनइएफटी के जरिए राशि भेजी। इसके अलावा अनिल के राव के एचडीएफसी बैंक खैर अलीगढ़ में भी एनइएफटी करवाई गई। बाद में एसबीआइ में एके राव के खाते में पैसे ट्रांसफर किए। हाल ही में एक आदमी दक्ष मेहता के नाम के एक व्यक्ति का फोन आया और उसने सुरेश कुमार को अपना परिचय आरबीआइ के डायरेक्टर के रूप में दिया। इतना ही नहीं ¨सघानिया नाम के आदमी ने भी अपनी अलग-अलग पहचान बताकर उसके पिता से राशि अपने अकाउंट में ट्रांसफर कराई।

Posted By: Jagran