जागरण संवाददाता, अंबाला : अब गर्भवती महिलाओं को कोरोना रोधी वैक्सीन लगाने की मंजूर मिल गई। जिले के किसी भी स्वास्थ्य केंद्र पर गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लगवाने की व्यवस्था होगी। वैक्सीनेशन के पोर्टल को भी सरकार ने अपडेट कर दिया है, अब पोर्टल पर अंकित की जाने वाली सूचनाओं में गर्भ के बारे बताना होगा। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि कोरोना की वैक्सीन लगाने से किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। स्त्रीरोग विशेषज्ञों के अनुसार वैक्सीन के बाद हल्का बुखार हो सकता है, उससे घबराने की जरूरत नहीं है। यह उन गर्भवती महिलाओं के लिए तो और भी ज्यादा जरूरी है, जिनको शुगर, बीपी, मोटापा है या वह 35 साल से ज्यादा आयु की हैं। इसके साथ-साथ जिन महिलाओं को सांस की दिक्कत है, किसी ने शरीर का कोई अंग बदलवाया हो, डायलिसिस या दिल के रोग से संबंधित दिक्कत हो तो उनको भी वैक्सीन लगवाना जरूरी है। इस अवस्था के दौरान यदि कोरोना संक्रमित हो जाती हैं तो उन्हें तीन महीने तक कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए इंतजार करना होगा या फिर डिलीवरी के बाद वैक्सीन लगवा सकती हैं। इसके लिए विभाग की तरफ से तैयारियां शुरू कर दी है। अगले सप्ताह से गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लगाने का कार्य शुरू हो जाएगा। छावनी के नागरिक अस्पताल और शहर के स्थित अस्पताल में प्रतिमाह 600 से ज्यादा गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी होती हैं। यदि किसी गर्भवती महिला को कोरोना संक्रमण हुआ है तो वह 3 महीने बाद वैक्सीन लगवा सकती हैं या फिर डिलीवरी के बाद वैक्सीन लगवा सकती हैं। वैक्सीन लगवाने से किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होगा।

-------------

तीसरी लहर को देखते हुए तैयारियां शुरू

कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए तैयारियां चल रही है। चिकित्सकों, एएनएम व अन्य स्टाफ के रिक्त पद को भरने के लिए डिमांड भी विभाग ने भेज दिया है।

----------------

वर्जन

गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। इसके लिए पोर्टल भी अपडेट हो चुका है। अब पोर्टल पर वैक्सीनेशन से पहले जानकारी दर्ज करते समय महिलाओं के कालम में गर्भवती का एक नया कालम है, जिसमें यह जानकारी अंकित की जाती है

डा. विशाल गुप्ता, वैक्सीनेशन अधिकारी कैंट।

Edited By: Jagran