हरीश कोचर, अंबाला

गणित का अगर कोई भी सवाल हल करना हो तो कम से कम चार से पांच मिनट लग जाते हैं। अगर हमें किसी पुराने साल की किसी तारीख का वार निकालना हो तो हमें मोबाइल में या कैलेंडर में देखना पड़ेगा। लेकिन अंबाला छावनी के बाजारों में भीख मांगने वाला एक ऐसा व्यक्ति भी है जिसका दिमाग कंप्यूटर ही नहीं बल्कि केलकुलेटर से भी तेज दौड़ता है। रेल विहार स्थित सुंदरनगर कॉलोनी का रहने वाला परवीन नौवीं फेल है। उसे किसी पुराने या आने वाले नए साल की तारीख का भी वार हो या गणित में कोई सवाल का जवाब देना हो तो उसे महज 5 से 10 सेकेंड का ही समय लगता है। उसका दिमाग इतना तेज कैसे है, यह उसे खुद को भी नहीं पता है। यही नहीं अंबाला छावनी के बाजारों में अधिकतर दुकानदार ही नहीं उसकी कॉलोनी में रहने वाले लोग भी उसके हुनर से रूबरू है।

जानकारी के मुताबिक छावनी के बैंक रोड स्थित फरुखा खालसा स्कूल में परवीन ने पढ़ाई की। नौवीं कक्षा में फेल होने के कारण उसने स्कूल छोड़ दिया था। घर में केवल माता-पिता और एक भाई था। भाई की शादी हो रखी थी और एक बेटा है। कुछ साल पहले माता-पिता का देहांत होने के बाद भाई भी दुनिया छोड़कर चला गया। घर में अब केवल उसकी भाभी और एक भतीजा रहता है। वह दिनभर बाजारों में केवल गिने-चुने दुकानदारों से ही रुपये मांगता है और उन्हीं रुपयों से अपने घर का गुजारा करता है। हालांकि उसकी यह हालत कैसे हुई, इस बारे में उसे कुछ भी याद नहीं है।

--------------------

15-20 सालों से भीख मांग रहा

छावनी के ओल्ड सदर बाजार के दुकानदारों के मुताबिक करीब 15-20 सालों से वह परवीन को यहां बाजार में घूमता देख रहे हैं। वह अकसर पुराने, गंदे और फटे हुए कपड़ों में ही घूमता है। साथ में केवल एक बैग रखता है जिसमें वह हर समय अपने साथ लकड़ी का कोयला रखता है। वह घर या बाहर खाना खाने से अधिक कोयला खाकर अपना पेट भरता है। कोयला खाने से वह बीमार भी नहीं होता है। ऐसे में लोग भी हैरान हैं कि वह कोयला खाकर कैसे जीवित है।

--------------------

महज 5 से 10 सेकेंड में देता जवाब

परवीन की खास बात यह है कि हिसाब के मामले में उसका दिमाग काफी तेज है। उसे चाहे 100 साल पुरानी किसी भी तारीख का वार पूछ लो या आने वाले दस साल बाद के किसी तारीख का वार पूछ लो। वह इसका जवाब बिना कोई कागज, पेन, या कैलेंडर के ही केवल 5 से 10 सेकेंड में ही दे देगा। खुद दैनिक जागरण ने परवीन से करीब 10 मिनट बातचीत की और उससे कुछ पुराने और नए सालों की तारीखों के वार पूछे, जिनका जवाब उसने 5 सेकेंड में दिया। उत्तर सही है या नहीं, यह देखने के लिए मोबाइल के कैलेंडर में भी पूछी गई तारीख का दिन चेक किया गया तो वह बिल्कुल सही निकला। इसके अलावा हिसाब के सवालों का जवाब देने में भी उसे इतने ही सेकेंड लगते हैं। हालांकि परवीन इतनी जल्दी और सही जवाब कैसे दे देता है, यह देखकर लोग भी हैरान हो जाते हैं।

Posted By: Jagran