जेएनएन, अंबाला। कुत्ता किसी भी प्रजाति का क्यों न हो यदि उसे सही तरह से प्यार व दुलार न मिले तो वह आदमखोर हो सकता है। कुत्तो की तीन चार नस्लें मुख्यत: गार्ड के नाम से जानी जाती हैं। उनको विशेष दुलार व प्रशिक्षण की जरूरत होती है। अन्यथा यह बहुत आक्रामक होकर मालिक तक को खा सकते हैं। कुत्तों के विशेषज्ञ डॉक्टर नीरज प्रशासर ने यह बात कही।

डॉक्टर नीरज ने बताया कि यदि पालतू कुत्ते को सही दुलार व केयर न मिले तो वह आमतौर पर खतरनाक हो जाता है। हालांकि आम तौर पर कुत्ता ऐसा नही करता। नीरज ने बताया कि कुत्ते को घर से बाहर बांधना, समय के अनुसार उसकी केयर न करना, सही प्रशिक्षण न देना, बाहर से आने वाले लोगो के सामने कुत्ते को काटने से रोकने के लिए इंकार करना इत्यादि के चलते कुत्ता कई बार नौकर को भी खा जाता है। 

यह भी पढ़ें: आदमखोर कुत्ते के दूसरे केयरटेकर ने पिया कीटनाशक, हालत गंभीर

पानीपत में रविवार को गाव पलहेड़ी में रॉट वीलर नस्ल के कुत्ते ने नौकर को नोच-नोच कर खा लिया। उसके शव का 25 प्रतिशत हिस्सा कुत्ता खा गया। जर्मन शेफर्ड, डाबर मैन, राट वीलर सहित करीब 12 प्रजातियां हैं, जो गार्ड के तौर पर पाली जाती हैं। ये प्रजाति काफी खतरनाक होती हैं।

कुत्तों के साथ इस तरह बरते सावधानी

- हर दिन कुत्ते को सुबह उठकर उसके शरीर पर हाथ जरूर फेरें

-उसे दुलार करें व गलती करने पर डांटे।

- मेहमान व अजनबी के आने पर उसे काटने से रोके ताकि कुत्ता मालिक का कहना मानना सीख सके।

-हर दिन समय के अनुसार कुत्तों का घर के भीतर अथवा बाहर बांधे।

- बीमार होने पर उसका उचित इलाज करें व घर के सदस्य की तरह समझें।

- समय-समय पर खाने का ध्यान रखें

यह भी पढ़ें: बदमाशाें ने व्यापारी को किया अगवा, वाट्सएप से बची जान

इन 12 प्रजातियो से मालिक को भी खतरा

-चो-चो

-प्रेसी कैनोरी

-ग्रेट डैन

-टोसा इनू

-फिला ब्रासिलेयरो

-वाल्फ हाइब्रिड

-सीबरियन हुसकी

-रॉट वीलर

-जर्मन शेफर्ड

-अमेरिकी पिट बुल टेरियर

-डाबर मैन

-बाक्सर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस