गुरु ग्रंथ साहिब के पहले प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में कीर्तन दरबार जागरण संवाददाता, अंबाला: पंजाबी गुरुद्वारा साहिब छावनी में गुरु ग्रंथ साहिब के पहले प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में कीर्तन दरबार सजाया गया। विभिन्न गुरुद्वारों व आसपास से पहुंची संगत ने गुरु ग्रंथ साहिब के समक्ष नतमस्तक होकर आशीर्वाद प्राप्त किया। गुरु के जयकारों बोले सो निहाल, सत श्री अकाल..व वाहे गुरु वाहे गुरु..से गुरुद्वारा गूंज उठा। कीर्तन में श्री दरबार साहिब अमृतसर से कंवलजीत ¨सह हजूरी रागी ने गुरु शब्दों व कीर्तन कर संगत को निहाल किया। उसके उपरांत संगत को गुरु के दिखाए मार्ग पर चलने व जरुरतमंदों का हमेशा भला करने के लिए प्रेरित किया। पंजाबी गुरुद्वारा साहिब से भाई परमजीत ¨सह ने गुरु शब्द प्रस्तुत किए। गुरुद्वारा प्रधान बीएस ¨बद्रा ने रागी जत्थों को सिरोपा देकर सम्मानित किया। समाप्ति पर गुरुद्वारा साहिब में अटूट लंगर लगाकर संगत में प्रसाद वितरित किया। इस मौके पर कुलवंत ¨सह, सरबजीत लाहोरी, रा¨जद्र ¨सह राजा, त¨वद्र ¨सह साहनी, ब्रह्मजीत ¨सह खालसा, हर¨वद्र ¨सह नीटू, मनमोहन ¨सह, परमजीत ¨सह, मुखतियार ¨सह, गुरमीत ¨सह कालड़ा, अमनप्रीत राजू आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran