संवाद सहयोगी, बराड़ा: बराड़ा नगरपालिका चेयरपर्सन की कुर्सी का मामला हाईकोर्ट में पहुंच चुका है। दोनों पक्षों इसे नाक की लड़ाई मान कर लड़ रहे है। रिचा पाहवा व उनके साथी विरोधी पार्षदों ने 17 जनवरी 2020 को अविश्वास प्रस्ताव की बैठक न होने कारण अदालत का दरवाजा खटखटाया था। जिस पर 20 जनवरी को डबल बैंच ने रिचा पाहवा के वकील का पक्ष सुना। अदालत ने एसडीएम बराड़ा की ओर से दी गई अविश्वास प्रस्ताव की बैठक के संबंध में दी गई 31 जनवरी तक पार्षद रिचा पाहवा व उनके साथियों को इंतजार करने को कहा। साथ ही बैंच ने यह भी कहा कि अभी अदालत इस मामले में कोई दखल नहीं देगी अगर एसडीएम बराड़ा की ओर से दी गई निर्धारित तिथि को तय बैठक नहीं होती, तब अदालत इस मामले की सुनवाई 3 फरवरी को करेगी।

---------------- क्या था मामला बराड़ा की वर्तमान नपा चेयरपर्सन रमा खेत्रपाल के खिलाफ विरोधी 11 पार्षद अविश्वास प्रस्ताव लेकर आए थे लेकिन एसडीएम की अध्यक्षता में होने वाली अविश्वास प्रस्ताव संबंधी मीटिग एसडीएम के तबादला होने के कारण रद् हो गई थीे जिसको लेकर विरोधाी पार्षदों ने अदालत का दरवाजा खटखटाया लेकिन नए एसडीएम ने ज्वाइन करने के बाद 31 जनवरी अविशवास प्रस्ताव की बैठक की तिथि घोषित कर दी थी।

-------------- वर्जन:- अविश्वास प्रस्ताव के बारे में बैठक 31 जनवरी को होगी। इसके लिए सभी पार्षदों को सूचना दी जा चुकी है। यह मामला कोर्ट में गया है या नहीं ? इस बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है । गिरीश कुमार, एसडीएम बराड़ा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस