अंबाला: छावनी के कालीपलटन पुल बनने में लेटलतीफी हजारों परिवारों पर भारी पड़ती नजर आ रही है। दर्जनों कॉलोनियों को जोड़ने वाला यह कालीपलटन का पुल सालों बाद भी बन नहीं सका। इस निर्माणधीन पुल के अलावा दूसरा विकल्प लोगों के पास शास्त्री कॉलोनी और रेलवे कॉलोनी वाला अंडरब्रिज है। हल्की सी बरसात में ही यह पुल पानी में डूब जाता है। ऐसे हालात में नौनिहाल और अन्य लोगों के पास घर जाने का एक रास्ता रेल पटरी ही बचता है। स्कूली छात्र साइकिलों को अपने कंधे की माध्यम से पटरी पार करते है। जिससे उनकी जान को भी खतरा है। इस मेन लाइन कभी भी दौड़ती हुई ट्रेन आ सकती है जिस कारण बड़ा हादसा हो सकता है। रेलवे एक तरफ लोगों को जागरूक कर रहा है पटरियों को पार करने से आपकी जान को खतरा है। मगर दूसरी तरफ लोगों पटरियों को पार करने के अलावा कोई ओर विकल्प नहीं बचा। हालांकि अंबाला-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग से भी रास्ता पड़ता है। जो दूर होने के कारण पसंद नहीं करते। रेलवे पुलों से पानी निकासी का बंदोबस्त करने में रेलवे अधिकारी नाकाम साबित हुए है।

Posted By: Jagran