जागरण संवाददाता, अंबाला: नागरिक अस्पताल छावनी के आतापकालीन विभाग में लगी फॉल सी¨लग का एक बड़ा हिस्सा बृहस्पतिवार अलसुबह टूटकर गिर गया। जोरदार आवाज के साथ जमीन पर गिरी फॉल सी¨लग से अस्पताल में मरीज, डाक्टर व मौजूद स्टाफ सहम गया। एक साल के अंदर ही दूसरी बार इमरजेंसी वार्ड में गिरी सी¨लग ने घटिया निर्माण सामग्री की पोल खोल दी। गनीमत यह रही कि यह सी¨लग ओटी के ठीक पास डाक्टरों के विश्राम करने वाले कमरों के पास गिरी। जहां से कोई गुजर नहीं रहा था। हर यह वार्ड या फिर ओटी में गिरती तो बड़ी दुर्घटना हो सकती थी। सूचना पाकर बृहस्पतिवार अस्पताल व पीडब्लयूडी के अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। बता दें कि अस्पताल के अंदर लेंटर पर एल्युमिनियम के फ्रेम पर प्लास्टर ऑफ पेरिस के शीट्स को बिठाया गया है। लेकिन अलसुबह अचानक ही एक बड़ा हिस्सा पूरा का पूरा ही जमीन पर गिर गया। वहीं, अलसुबह तेज हवाओं के कारण आईपीडी ब्लॉक के अंदर एक दरवाजे का शीशा भी गया।

-------

सीलन के कारण फूल चुकी थी फॉर सी¨लग

अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड के अंदर जो फॉर सी¨लग गिरी है। वह सीलन के कारण फूल चुकी थी। यह हादसा कोई पहली बार नहीं बल्कि इमरजेंसी वार्ड की ओप¨नग के सवा माह के बाद 6 अगस्त 2017 को भी हुआ था। उस समय वार्ड में बनी ओटी के ठीक बाहर सी¨लग गिरी थी। जांच के दौरान भी सीलन की बात सामने आई थी। तब स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने औचक निरीक्षण कर सुधार के निर्देश दिए थे। अब दोबारा सी¨लग गिरने की बात ने अधिकारियों की लारपवाही को उजागर कर दिया।

-----

टेंशन में दिखे पीडब्लयूडी के अधिकारी

इमरजेंसी वार्ड के अंदर सी¨लग का एक बड़ा हिस्सा गिरने पर पीडब्लयूडी के अधिकारियों के चेहरे पर टेंशन दिखाई दी। पीडब्लयूडी के एसडीओ सुरेंद्र व उनके टीम ने मौके पर पहुंचकर गिरने का कारण जांचते मिले। मगर दोबारा इस तरह की दुर्घटना न घटित हो इसके लिए वार्ड से लेकर अन्य ब्लॉक में भी जाकर सी¨लग का जायजा लिया। एसडीओ सुरेंद्र के अनुसार सी¨लग गिरने का कारण वार्ड के अंदर एसी का कभी चलना तो कभी बंद होना है। तापमान में बदलाव के कारण सी¨लग में नमी आ जाती है और गिरने का डर रहता है।

------ मरीजों के वार्ड, ओटी व डायलिसिस ¨वग में भी सीलन

अस्पताल की बि¨ल्डग का जायजा लिया जाए तो पता चलता है कि इमरजेंसी वार्ड के अंदर मरीजों के वार्ड, ओटी से लेकर डायलिसिस ¨वग के अंदर भी सी¨लग में सीलन दिखाई दे रही है। जोकि कभी भी बड़े हादसे को न्यौता दे सकती है। इन जगह सी¨लग फूले के साथ-साथ उसमें सीलन से होने वाली हरे रंग के धब्बे भी पड़ने लगे है। जो अत्याधिक सीलन होने पर अपनी पकड़ छोड़ सकते है। बावजूद उन्हें अनदेखा किया जा रहा।

Posted By: Jagran