उमेश भार्गव, अंबाला शहर

अब प्रदेश का दमकल विभाग हाईटेक हो गया है। प्रदेश के दमकल विभाग में अब लाल रंग की 102 रॉयल एनफिल्ड आ गई हैं। शान की इस सवारी की खासियत यह है कि इसकी मदद से तंग से तंग गलियों में भी दमकल विभाग समय से पहले पहुंच जाएगा और आग पर काबू पा लिया जाएगा। अत्याधुनिक तकनीक से युक्त इन एनफिल्ड में दो मिस्ट सिलेंडर लगाए गए हैं। इनमें फोरम व पानी मिक्स होता है। जैसे ही किसी तंग गली में आग की सूचना मिलेगी इन बुलेट पर फायर कर्मी को भेज दिया जाएगा। प्रत्येक बुलेट की कीमत करीब साढ़े 6 लाख रुपये है। इस तरह करीब 6 करोड़ 63 लाख की कीमत से यह बुलेट प्रदेश में आई हैं। इसके अलावा 6 डिविजन और पंचकूला हेडक्वार्टर सहित कुल 7 टाटा की शानदार सफेद जीप भी मिली हैं। करीब साढ़े 8 लाख की कीमत वाली इस जीप में डाला सिस्टम भी है। ताकि आगजनी की घटना के दौरान कुछ सामान लाया या ले जाया जा सके या नहर में डूबे व्यक्ति, आगजनी में घायल हुए व्यक्ति को इसमें डालकर अस्पताल पहुंचाया जा सके।

दरअसल शहरी स्थानीय निकाय मंत्रालय की ओर से लंबे समय से यह प्रयास चल रहा था लेकिन यह प्रोजेक्ट सिरे नहीं चढ़ पा रहा था। अब निदेशालय ने यह गाड़ियां प्रत्येक जिले में मुहैया करवा दी हैं। अंबाला में चार बुलेट आई हैं। दो अंबाला शहर में एक छावनी में और एक नारायणगढ़ में उपलब्ध रहेंगी।

-------------

छोटी आग पर पाया जा सकेगा तुरंत काबू

दरअसल कई बार देखने में आता है कि भीड़-भाड़ व तंग इलाके में आग लग जाती है। जब तक दमकल विभाग की गाडिय़ां वहां रास्ता बनाकर पहुंचती हैं तब तक सब कुछ नष्ट हो चुका होता है। इसीलिए इन बुलेट को विशेष तौर पर तैयार करवाया गया है। इन बुलेट से रसोई की आग, छोटी दुकान व शोरूम की आग व एक कमरे तक सिमटी आग पर काबू पाया जा सकेगा। साथ ही साथ बड़ी आगजनी के दौरान गाड़ी से पहले पहुंचकर प्राथमिक सहायता मुहैया कराई जा सकेगी।

---------------

फोटो: 08

अत्याधुनिक तकनीक से युक्त बुलेट हमें प्राप्त हो चुकी हैं। जीप भी हमें आज ही मिली है। इसमें डाला सिस्टम भी लगवाया गया है। बुलेट में दो सिलेंडर लगे हैं इनकी मदद से हम तंग गलियों में छोटी आगजनी पर काबू पा सकेंगे।

डीके नंदा, फायर अधिकारी अंबाला रेंज।

Posted By: Jagran