जागरण संवाददाता, अंबाला : परेड की जनता ने अनिश्चितकालीन धरने पर होली का त्यौहार मनाया। जनता ने मालिकाना हक लेकर रहेंगे, जो हम से टकरायेगा चूर-चूर हो जाएगा आदि नारे भी लगाए। लोगों ने कहा कि मालिकाना हक के संबंध में परेड की जनता अब किसी धोखे या झूठे आश्वासन में नहीं आएंगी। इसीलिए जनता को उनको उनकी जमीन का मालिकाना हक चाहिए। यह लड़ाई और संकल्प करके जनता धरने पर बैठी है।

होली पर्व के मौके पर रूटीन की तरफ परेड की जनता धरने स्थल पर 10 बजे पहुंची। इसी बीच भूख हड़ताल पर बैठे लोगों को जनता ने गुलाल लगाने के साथ-साथ एकता के नारे करने में जुट गए। इसके बाद धरने स्थल पर होली का जश्न शुरू हो गया और एक दूसरे को परेड की जनता ने खूब गुलाल लगाकर होली की बधाई दी। यह धरना मालिकाना हक जनसभा की ओर से 8 फरवरी को शुरू किया था। इस धरने का खत्म कराने के लिए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की ओर से भी प्रयास किए गए और मंत्री का प्रतिनिधि मंडल दो बार मिल चुका है लेकिन जनता का एक ही बात है कि उनको उनके मालिकाना हक का पुख्ता सबूत धरने स्थल पर ही चाहिए। इसीलिए जनता ने डीसी को भी एक मांगपत्र सौंप कर पूछा है कि उन्हें लिखित में बताया जाएं कि सरकार के प्रपोजल की स्थिति क्या है और कितना समय में उनको मालिकाना हक मिल सकता है। फिलहाल डीसी कार्यालय की ओर से कोई लिखित में जवाब नहीं आया है।

Posted By: Jagran