जागरण संवाददाता, अंबाला शहर : बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल व धरना प्रदर्शन आठवें दिन ही सिमट गया। हालात यह रहे कि सुबह 11 बजे तक तो हड़ताल के दौरान एक भी कर्मचारी सिविल सर्जन कार्यालय में नजर नहीं आया। दोपहर की साढ़े 12 बजे हालात यह थे कि गिनी चुनी चंद महिला कर्मी ही धरने पर बैठी थी। रविवार को भी स्थिति ऐसी ही थी। आठवें दिन धरने की अध्यक्षता जिला प्रधान कांता रानी व मंच संचालन ब्लॉक प्रधान अंजू बाला ने कहा कि कर्मचारी एसोसिएशन की राज्य प्रधान ओमपति कादियान की अध्यक्षता में रोहतक में दो सितंबर को बैठक हुई। इसमें सर्व कर्मचारी संघ के महासचिव सुभाष लांबा ने बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारियों के आंदोलन को मजबूती से लड़ने पर शाबाशी दी। राज्य उप प्रधान पाल कौर ने कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार आरसीएच कर्मियों को टर्मिनेशन का डर दिखाकर डराने की कोशिश कर रही है। धरने में बिजली निगम से सेवानिवृत्त धर्मबीर ¨सह प्रदर्शन में विवेक, रणधीर, सर्वजीत कौर, निर्मला, कुलवन्त, सोनिया, दीपा, सुरेन्द्र कौर, गीता, प्रीति, सुमन, रीटा द्वारा कर्मचारियों को संयुक्त रूप से संबोधित किया गया।

Posted By: Jagran