जागरण संवाददाता, अंबाला : हरियाणा दक्षिण क्षेत्र के छह जिलों में बिजली सप्लाई करने वाली दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीपीएन) में सर्कल बदल कर प्रमोशन लेने का कर्मियों का खेल खत्म कर दिया है। वहीं उत्तरी क्षेत्र के 10 जिलों में बिजली सप्लाई करने वाली उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीपीएन) में खेल जारी है। डीएचबीवीपीएन तो जून 2018 में आदेश जारी कर स्पष्ट कर चुका है कि यदि कर्मचारी सर्कल बदलता है तो प्रमोशन मिलेगी। यदि प्रमोशन के बाद कर्मचारी वापस उसी सर्कल में जाएगा तो उसे उसी पद पर काम करना होगा। डीएचबीवीपीएन के यह आदेश चेयरमैन कम मैने¨जग डायरेक्टर (सीएमडी) के आदेशों पर जारी किए गए थे। इसीलिए इन्हीं आदेशों का हवाला यूएचबीवीपीएन के कर्मियों ने सीएमडी को लिखे में पत्र में दिया है। साथ ही चीफ इंजीनियर और अधीक्षक अभियंता से भी इस मामले में कार्रवाई की मांग की है। दिसंबर 2018 में दी गई शिकायत पर अभी तक कोई कार्रवाई बिजली निगम के सीएमडी और चीफ इंजीनियर कार्यालय की ओर से नहीं गई है। शिकायत में एसई अंबाला के ज्वा¨नग के आदेशों को भी गलत ठहराया गया है क्योंकि बिना पोस्ट के ही पद देना कर्मियों में विवाद का कारण बन रहा है। उधर, एसई आरके खन्ना का तर्क है कि मामला हेडक्वार्टर से जुड़ा है।

-------

ये है पूरा मामला

यूएचबीवीएन के अंबाला सर्कल के दो जिलों के 33 केवी सब स्टेशन में तैनात स्टाफ की प्रमोशन में अधीक्षक अभियंता (एसई) की ओर से ज्वा¨नग दे दी गई। ज्वा¨नग के चलते साल 1991 में भर्ती हुआ स्टाफ सीनियर से जूनियर बन गया है। इसीलिए 21 साल से सीनियर अब जूनियर के नीचे काम करने पर मजबूर हैं। इससे कर्मियों के आत्म सम्मान को ठेस पहुंच रही है जिससे आहत कर्मियों ने सीएमडी से कार्रवाई की गुहार लगाई है। पंचकूला के मोरनी, अंबाला शहर के जैतपुरा, छावनी 12 क्रॉस रोड पर 33 केवी सब स्टेशन बना हुआ है जिसमें शिफ्ट अटेन्टड (एसए), सहायक सब स्टेशन अटेन्टड (एएसएसए) और सब स्टेशन अटेन्टड (एसएसए) के पद हैं। सब स्टेशन कम होने के चलते एसएसए के पद भी बेहद कम है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस