हरीश कोचर, अंबाला : जिले को नशामुक्त करने के लिए अभियान पर ग्रहण लगता नजर आ रहा है। अंबाला छावनी में अलग अलग तीन जगहों पर बिना सरकार की अनुमति अवैध ठेके खोलकर खुलेआम शराब बेचने का कारोबार चल रहा है। इससे जहां सरकार को चूना लग रहा है वहीं पुलिस और एक्साइज विभाग के अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं। दिन के उजाले में ही बेखौफ देसी व अंग्रेजी शराब बेची जा रही है। इसके अलावा छावनी की रेलवे कालोनी में भी मंदिर के पास अवैध कारोबार चल रहा है।

--------------------

से¨टग का खेल, इसलिए नहीं होती

सूत्रों के मुताबिक जिस-जिस जगह यह ठेके खुले हुए है, उनके थाना क्षेत्र के सिक्योरिटी एजेंट (एसए) को भी इनके बारे में पता है। अब यह जांच का विषय है कि एसए या खुफिया विभाग आला अधिकारियों को क्या रिपोर्ट भेजते हैं।

--------------------

फोटो 30,31

दीना की मंडी में सरेआम सड़क किनारे बना ठेका

बारह क्रास रोड दीना की मंडी में बिजली निगम दफ्तर के बिलकुल नजदीक सुलभ शौचालय की साइड में अवैध रूप से लोहे के खोखे में सरेआम अवैध शराब ठेका चल रहा है। यहां एक व्यक्ति अंदर बैठा है जो कि खिड़की में से ही शराब देता है। सोमवार को दैनिक जागरण की टीम करीब डेढ़ बजे यहां पहुंची तो देखा कि एक के बाद एक करके कई लोग देसी ही नहीं अंग्रेजी शराब की बोतल, आधे और पव्वे तक यहां से लेकर गए। वहीं करीब डेढ़ बजे एक ई-रिक्शा में तीन लोग यहां आए और दरवाजा खोलकर सीधे अंदर ठेके में चले जाते है। करीब 20 मिनट बाद तीनों ठेके के अंदर ही शराब पीकर नमकीन खाते हुए बाहर निकलते है। यह इलाका हाउ¨सग बोर्ड पुलिस चौकी के अधीन आता है। परंतु पुलिस कर्मी जान बूझकर अनजान बने हुए है।

---------------------

फोटो 32

ठेके वाले ने बोला, देसी चाहिए या अंग्रेजी

इसी तरह से दूसरा ठेका बारह क्रास रोड से नन्हेड़ा जाने वाली सड़क पर बिलकुल टी-प्वाइंट के पास सड़क से साइड में पेड़ों के नीचे बना हुआ है। यहां करीब 15 फुट लंबा-चौड़ा लोहे का खोखा बना हुआ है। यहां तक इस ठेके में तो एक फ्रिज भी रखा हुआ है ताकि लोगों को बीयर लेने के लिए भी कहीं दूर न जाना पड़े। जब जागरण टीम यहां पहुंची तो ठेके के अंदर ही एक का¨रदा आराम से सो रहा था। उसने पूछा कि आपको देसी चाहिए या अंग्रेजी।

---------------------

फोटो 33

ठेके वाला कहीं गया है, बताओ कौन-सा माल दूं

वहीं बीडी फ्लोर मिल के पीछे पुरानी करधान चौकी रोड पर बिल्कुल बंधे किनारे अशोक नगर में भी एक अवैध ठेका पिछले लंबे समय से चल रहा है। सूत्रों के मुताबिक एक सैनी नाम से शराब ठेकेदार है जिसे प्रशासन की ओर से एक ठेका भी अलॉट हो रखा है। उसी अलॉट ठेके की आड़ में यहां बंधे किनारे एक अन्य ठेका चलाया जा रहा है। जब दैनिक जागरण टीम ढाई बजे यहां पहुंची तो दुकान पर ताला लगा था। पूछताछ करने पर पता चला कि ठेके पर काम करने वाला का¨रदा किसी जानकार के निधन पर उसके संस्कार में गया है। उसके आते ही करीब दो घंटे बाद ठेका खुलेगा। ठेके पर काम करने वाले का¨रदे के दोस्त ने बातचीत के दौरान बताया कि आपको कौन-सा माल चाहिए, बताओ मैं आपको दे दूंगा। हालांकि इस ठेके पर कुछ दिन पूर्व जुर्माना भी किया जा चुका है।

----------------------

ठेका छोड़कर भाग जाते है

हमने पहले भी यहां रेड की थी लेकिन इन ठेकों पर काम करने वाले लोग भाग जाते है। आज छुट्टी है इसलिए मैं मंगलवार सुबह ही यहां कार्रवाई करवाता हूं। हम केवल इन लोगों पर बोतल के हिसाब से फाइन लगा सकते है, अवैध रूप से शराब रूकवाना पुलिस का काम है।

एनके ग्रेवाल, डीईटीसी, अंबाला।

---------------------

रेलवे कॉलोनी में भी सरेआम बिक रही शराब रेलवे कॉलोनी में भी एक घर के अंदर सरेआम शराब का अवैध कारोबार चल

रहा है। कॉलोनी में स्थित मंदिर के नजदीक ही एक घर है जिसकी मालकिन का

छावनी में शराब बेचने के मामले में काफी नाम है। न तो उसके खिलाफ पुलिस

कार्रवाई करती है और न एक्साइज विभाग वहां जाने की हिम्मत करता है। जबकि

पूरी कॉलोनी ही नहीं छावनी में भी सभी लोगों को पता है कि मंदिर के पास

किसी जगह और किसके पास शराब मिलती है।

Posted By: Jagran