संवाद सहयोगी, नारायणगढ़ : जमीन के असली मालिक की जगह फर्जी कागजात तैयार कर रजिस्ट्री करवाने तहसील पहुंचे गिरोह को तहसीलदार व अन्य कर्मियों ने दफ्तर में ही दबोच लिया। पुलिस में जमीन मालिक द्वारा की गई शिकायत के आधार पर लगाए गए ट्रैप में गिरोह के चार सदस्य काबू कर लिए गए, जिनमें एक महिला भी शामिल है। पुलिस ने इस मामले में धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पकड़ में आए इन चारों की पहचान उमेद ¨सह, बरगत राम व संतोष कुमारी, बलबीर ¨सह नंबरदार के रूप में हुई है।

जानकारी मुताबिक रतन लाल पुत्र घसीटा राम वासी गांव रतनगढ़ (अंबाला) ने थाना नारायणगढ़ में एक शिकायत देकर बताया कि उसने व उसके भाईयों ने वर्ष 1995 में गांव कुराली थाना नारायणगढ में 12 एकड़ जमीन खरीदी थी। इस जमीन में से 6 एकड़ जमीन उसके नाम है और 24 अगस्त को उसे पता चला कि नरेश कुमार व उमेद ¨सह पुत्र कर्ण ¨सह वासी गांव बधौली थाना नारायणगढ़ मिलकर उसकी जमीन को धोखाधड़ी से हड़पने के लिए बरगत राम पुत्र खान चंद वासी बनूड जिला मोहाली पंजाब को नकली विक्रेता रतन लाल बनाकर और उसके नाम से नकली आधार कार्ड बनाकर जमीन की रजिस्ट्री संतोष कुमारी पत्नी राजेंद्र कुमार वासी मौली जांगरा चंडीगढ़ के नाम करवा रहे हैं।

जिन्होंने 23 अगस्त को स्टाम ड्यूटी जमा करवाकर उसकी तीस कनाल 16 मरले भूमि की जाली रजिस्ट्री लिखवा ली है, जिसकी फोटो प्रति उसे मिल गई थी। जिन्होंने यह फर्जी रजिस्ट्री करवाने के लिए तहसील नारायणगढ़ में बुधवार का समय लिया हुआ था। अपने साथ हो रही इस धोखाधड़ी बारे उसने एक शिकायत पुलिस को भी कर दी थी,

जिस पर बुधवार को जब उक्त गिरोह उसकी जमीन की रजिस्ट्री करवाने के लिए तहसील कार्यालय पहुंचा तो तहसीलदार ने कागजात देखने के बाद जब मलकीयत के

रिकार्ड जांचा तो उन्होंने उसी समय पुलिस को इस बाबत सूचना दे डाली और थोड़ी देर में ही गिरोह के चार सदस्य जिनमें एक महिला व नंबरदार शामिल था, को पुलिस ने धर दबोचा। पूछताछ में सामने आया है कि ये लोग ऐसे गिरोह के सदस्य हैं जो जमीन के फर्जी कागजात तैयार कर अपने आपको जमीन मालिक बताकर जमीन बेचने का धंधा कर रहे हैं।

--------

- रत्न लाल की शिकायत पर पुलिस ने लाहा गांव के नंबरदार अशोक कुमार व अन्य के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420, 467, 468, 471, 120बी में मामला दर्ज कर लिया है जांच जारी है।

हरभजन ¨सह, थाना प्रभारी नारायणगढ़।

Posted By: Jagran