जागरण संवाददाता, अंबाला : बढ़ती महंगाई और लगातार आसामान छू रहे पेट्रोलियम के दामों के विरोध में छावनी के सदर बजार चौक पर शुक्रवार को हरियाणा डेमोक्रेटिक फ्रंट ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला। सरकार के 7 साल के कार्यकाल में जीडीपी माइनस में चली गई है जबकि गैस, डीजल, पेट्रोल और अन्य जीवनउपयोगी सामानों की कीमत आसमान को छू रही है। यह बातें हरियाणा डेमोक्रेटिक फ्रंट की नेत्री चित्रा सरवारा ने कहीं। उन्होंने कहा कि सरकार 7 साल में देश के विकास के नाम पर नोटबंदी, जीएसटी समेत सभी योजनाओं से लोग गरीब हो गए हैं और सत्तापक्ष के चहेतों के खजाने भर गए हैं। आज 50 प्रतिशत देश की जनता अपनी जोड़ी हुई जमा पूंजी से खा रही है, उधार हर तरफ चढ़ गया है, रोजगार निम्नतम स्तर पर है लेकिन सरकार के रवैया में न कोई ममता है न ही दया है। कोरोना काल से अंबाला के छोटे उद्योग और साइंस इंडस्ट्री की कमर टूट चुकी है। दुकानदारों का काम ठप हो जाने से वहां काम करने वाले हजारों लोग रोजी रोटी कमाने के लिए इधर उधर भटक रहे हैं। अंबाला छावनी में बरसाती पानी के निकासी के हालत यह है कि मानसून की पहली बारिश में ही करोड़ों की लागत से बना सुभाष पार्क डूबता दिखाई दिया। पूरे शहर की गलियां और सड़कें बरसाती पानी से लबालब भरी थी। नाले और नालियों का भी बुरा हाल था। इस दौरान ब्रहमपाल राणा, सुरेश त्रेहन, विकास वालिया, अमीषा चावला, विनोद धीमान, अविनाश,वीरेंदर गांधी, विजय गुंबर, गगन डांग, सुभाष भाची, जरनैल माजरा, रामपाल मंडान, सोनू गुज्जर, रोहित शर्मा विशु, परविदर बंटी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Edited By: Jagran