जागरण संवाददाता, अंबाला : यदि आपको रात के समय अंबाला कैंट रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर रुकना है तो इसके लिए अपनी सुरक्षा खुद करनी होगी। रेलवे स्टेशन पर जहां पुलिस कर्मी दिखाई नहीं दिए, वहीं यात्री भी भी फर्श पर लेटकर ट्रेन का इंतजार करते दिखे। इसी तरह के हालात बस स्टैंड अंबाला कैंट के भी दिखाई दिए, जहां पर बैंच को ही बिस्तर बनाकर लोग लेटे दिखाई दिए। हालांकि यहां पर दो होमगार्ड के जवान गश्त करते तो दिखाई दिए, लेकिन जिस तरह से बस स्टैंड का एरिया है, उसके लिहाज से यह संख्या काफी कम है। यह दोनों अपराध के मामले में काफी संवेदनशील हैं। कई आपराधिक घटनाएं इन दोनों स्थानों पर हो चुकी हैं।

------------- अंबाला कैंट रेलवे स्टेशन, समय 9:30 बजे

अंबाला कैंट रेलवे स्टेशन पर ट्रेन की इंतजार में यात्रियों का जमावड़ा लगा हुआ है। कोई बेंच पर बैठकर ट्रेन का इंतजार कर रहा है, तो कई यात्री फर्श पर ही चादर बिछाकर लेटे हुए हैं। आसपास कोई कर्मचारी नहीं है, जबकि यात्री भी अपना सामान समेटे हुए सोते दिखाई दिए। यहां पर चाइल्ड हेल्प डेस्क का काउंटर भी बंद मिला। यूटीएस काउंटर पर टिकट लेने के लिए यात्री पूछताछ करते दिखाई दिए। सबसे महत्वपूर्ण है कि यात्रियों की सुरक्षा के लिए कोई खास इंतजाम प्लेटफार्म नंबर एक पर नहीं दिखाई दिए। यात्री बेरोकटोक स्टेशन में आवाजाही करते रहे।

--------------- बस स्टैंड में नहीं बाहर यात्रियों का जमावड़ा, समय 9:45 बजे

अंबाला कैंट बस स्टैंड पर रात के समय यात्रियों का जमावड़ा दिखाई नहीं दिया। हां बस स्टैंड के बाद यात्री बसों का इंतजार करते रहे। हालांकि नियम है कि बस स्टैंड से होकर ही बस आगे जाएगी। लेकिन इस नियम को भी तोड़ा गया। बसें बस स्टैंड के भीतर आने की बजाए सीधे बाहर से ही निकलती दिखाई दी। यात्री भी बस पकड़ने के लिए बाहर ही सामान के साथ खड़े दिखाई दिए। बस स्टैंड के भीतर पड़े बेंच पर ही बिस्तर लगाकर सोते दिखाई दिए। गश्त के लिए होमगार्ड के दो जवान ही दिखाई दिए।

Edited By: Jagran