फोटो 25 से 29 नेशनल हाईवे सहित गांवों में घूम रहे गोवंश से हादसे का डर, लोग बोले प्रशासन करे कार्रवाई। मनीष भारद्वाज, मुलाना : बेसहारा पशुओं से निजात दिलाने में प्रशासन नाकाम नजर आ रहा है और उसके दावे भी खोखले साबित हो रहे हैं। क्षेत्र में बेसहारा पशुओं की संख्या लगातार बढ़ रही है। ये पशु नेशनल हाईवे किनारे, बाजारों, सड़कों सहित गांवों में रोजाना देखे जा रहे है जोकि हादसों का कारण बन रहे है। वहीं ऐसे में स्थानीय प्रशासन का इनकी तरफ कतई ध्यान नहीं है। ये बेसहारा पशु मार्ग पर अचानक से वाहन के आगे आ जाते हैं और इससे कई बार बड़े हादसे होते-होते बचे हैं। ऐसे में लोगों का कहना है कि प्रशासन किसी बड़े हादसे के इंतजार में है और इसके बाद ही प्रशासन की कुंभकर्णी नींद खुल पाएगी। ये हालात तब पैदा हो रहे हैं जबकि यहां गौशालाएं व नंदीशालाएं हैं। लंबे समय से नहीं चला अभियान

क्षेत्र में लंबे से समय बेसहारा पशुओं को पकड़ने का अभियान नहीं चलाया गया है। इसके चलते इनकी संख्या में इजाफा हो रहा है। क्षेत्र के कई गांवों सहित नेशनल हाईवे पर बेसहारा पशु झुंडों में घूम रहे हैं। इससे न केवल यातायात प्रभावित होता है, बल्कि हादसे का खतरा भी बना रहता है। इसके अलावा बेसहारा पशु किसानों की फसलों को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं।

---------------------

फोटो-26

क्षेत्र में घूम रहे गोवंशों को स्थानीय नंदीशाला में पहुंचाना चाहिए, ताकि लोगों को राहत मिले और हादसे घटित होने का भय भी घटे।

-जयकुमार। -----------------

फोटो-27

गोवंशों को बेसहारा छोड़ने वालों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए । ऐसा करने वालों के खिलाफ भी विशेष अभियान चलाया जाना चाहिए ताकि वो दोबारा ऐसी गलती न कर सकें।

-लक्की राणा।

----------------- फोटो-28

बेसहारा पशुओं के मार्ग सहित गांवों में घूमने के कारण रात का सफर जोखिम भरा हो जाता है। ऐसे में कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

-लवनीश खरबंदा।

-------------------- फोटो-29

आज ही बराड़ा बीडीपीओ को बेसहारा पशुओं को पकड़ने का अभियान चलाने के लिए निर्देश देता हूं । इन्हें पकड़कर जल्द ही नंदीशाला भेजा दिया जाएगा।

-बिजेंद्र कुमार, एसडीएम बराड़ा।

----------------------

Edited By: Jagran