जागरण संवाददाता,अंबाला : छावनी का अंतरराज्यीय बस स्टैंड। यहां रोजाना करीब साढ़े 500 बसें हरियाणा, पंजाब, हिमाचल, जम्मू एंड कश्मीर, राजस्थान और उत्तर प्रदेश की की ओर आती-जाती हैं। हजारों की तादाद में यात्री बस स्टैंड के सामने से होकर निकलते हैं लेकिन यहां पर गंदगी उनका स्वागत करती हैं। ऐसे में अंबाला की छवि खराब हो रही है और नगर निगम के अधिकारी इस डं¨पग प्वाइंट की तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। बस स्टैंड रोड के बाद गेट पर एक एटीएम लगा है जहां पर यात्रियों की सिक्योरिटी के लिए एक गार्ड नियुक्ति किया गया है जो सुरक्षा के बजाय खराटे मार रहा था। एटीएम में एक के बजाये कई लोग घुसे हुए थे। बस स्टैंड परिसर में बि¨ल्डग की साइड में पीली पट्टी लगी है। पीली पट्टी के अंदर का एरिया रोडवेज ने पार्किंग ठेकेदार को दे रखा है लेकिन यहां पर पीली पट्टी दिखाई ही नहीं दे रही है। पीली पट्टी क्रॉस करके दो पक्तियों में गाड़ियों की पार्किंग की गई है जो पूरी तरह से अवैध हैं। यह जगह पार्किंग के लिहाज से न तो सुरक्षित है और न ही बस स्टैंड की सुरक्षा के लिए ठीक है। स्टैंड में संस्थान प्रबंधक के कार्यालय के पास लगे सीसीटीवी कैमरे ठप पड़े हैं। एक भी कैमरा नहीं चल रहा था। ऐसे में बस स्टैंड की सुरक्षा में राम भरोसे चल रही है। यहां पर न तो पुलिस है और न ही कोई होमगार्ड जवान देखरेख करता मिला।

जब सीसीटीवी नहीं चलने की पड़ताल की गई तो सामने आया कि बस स्टैंड पर जरनेटर की कोई व्यवस्था नहीं है। बिजली चली जाती है तो ब्लैक आउट की स्थिति पैदा हो जाती है। इसीलिए यात्रियों को काफी परेशानी झेलनी पड़ती है। लेकिन रोडवेज के अधिकारी जुगाड़ से बस स्टैंड चला रहे हैं।

इंक्वायरी मिली खाली

रोडवेज की ओर से यात्रियों की सुविधा के लिए इंक्वायरी केंद्र बना रखा है जहां से यात्री बैरंग लौटते दिखाई दिए। इंक्वायरी पर कोई भी कर्मी तैनात नहीं था। इसीलिए यात्रियों को बस की जानकारी के लिए इधर-उधर भटकना पड़ा।

Posted By: Jagran