जागरण संवाददाता, अंबाला : कोरोना ने जहां एक ओर खेलो इंडिया यूथ गेम्स को स्थगित कर दिया गया है, वहीं अंबाला को मिली डे बोर्डिंग और खेल अकादमी के ट्रायल भी रुक गए हैं। अभी परिस्थितियां सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है, जबकि खेल विभाग ने मुख्यालय को लेटर भेजा है, ताकि खिलाड़ियों के ये ट्रायल लिए जा सकें। फिलहाल विभाग इंतजार कर रहा है कि यह ट्रायल लिए जाएं और अन्य व्यवस्थाओं को शुरू किया जाए। दूसरी ओर स्कूलों को खेल नर्सरियां देने के लिए आवेदन प्रक्रिया तो जारी है, जबकि यह फाइनल होने के बाद खेल विभाग ने इन स्कूलों का निरीक्षण करना है।

जिला खेल विभाग को अंबाला में तैराकी की डे बोर्डिंग और फुटबाल की खेल अकादमी अलाट हुई है। इसके लिए ट्रायल लिए जाने थे, लेकिन इससे पहले ही कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के चलते खेल गतिविधियों पर काफी पाबंदी लगा दी। हालांकि यह ट्रायल पंद्रह जनवरी को लिए जाने थे। दूसरी ओर तैराकी के लिए मौजूदा समय में बिजली कनेक्शन देने की प्रक्रिया जारी है, ताकि अंतरराष्ट्रीय स्तर के आल वैदर स्वीमिग पूल को शुरू किया जाए। यह पूल शुरू होने के बाद ही खिलाड़ियों के ट्रायल लिए जा सकेंगे।

दूसरी ओर अंबाला कैंट के वार हीरोज मेमोरियल स्टेडियम में ही अंतरराष्ट्रीय स्तर का फुटबाल स्टेडियम बनाया जा रहा है। हालांकि राबर्ट पैवेलियन स्थित फुटबाल मैदान में ट्रायल लिए जा सकते हैं, लेकिन यहां पर भी बरसात के कारण मैदान गीला है, जिसके कारण अभी ट्रायल टाले गए हैं। खेल विभाग इंतजार कर रहा है कि मुख्यालय से हरी झंडी मिले ओर उक्त खेलों में खिलाड़ियों के ट्रायल लिए जाएं। हालांकि खेल विभाग स्कूलों में भी खेल नर्सरियों के लिए आवेदन मांग रहा है, लेकिन यह प्रक्रिया अभी आवेदन तक ही है। स्कूल अभी बंद हैं, जबकि आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद खेल विभाग ने इन स्कूलों का निरीक्षण भी करना है। अभी इसके लिए कोई दिशा निर्देश नहीं मिले हैं। निरीक्षण के बाद ही खेल नर्सरियां किन स्कूलों को दी जाएंगी, वह तय किया जाएगा।

इस बारे में जिला खेल अधिकारी ज्योति रानी ने बताया कि ट्रायल को लेकर तैयारी तो कर रहे हैं, जबकि मुख्यालय से हरी झंडी का इंतजार है, जिसके लिए लेटर लिखा है। दूसरी ओर आल वैदर स्वीमिग पूल के लिए भी बिजली कनेक्शन देने की प्रक्रिया चल रही है, जिसके बाद यह पूल ट्रायल के लिए तैयार होगा।

Edited By: Jagran