जागरण संवाददाता, अंबाला : बिटक्वाइन में निवेश और कम समय में मोटे मुनाफे का लालच दिखाकर शातिरों ने अमित बंसल से 33.50 लाख रुपये की ठगी कर ली। मामले की शिकायत एसपी कार्यालय में दी गई थी, जिसकी जांच आर्थिक अपराध शाखा को सौंपी गई। पीड़ित का आरोप है कि आर्थिक अपराध शाखा ने केस के तथ्यों को तोड़-मरोड़ दिया जबकि मामला तक दर्ज नहीं किया गया। अब आइजी कार्यालय में शिकायत दी गई है। कैंट थाना पुलिस ने शिकायत के आधार पर मनोज चमोला, दलीप गुप्ता उर्फ देव गुप्ता, राजिद्र प्रसाद चमोला, मुनीष चमोला के खिलाफ मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

शिकायत में अमित बंसल ने बताया कि वह अहलुवालिया बिल्डिंग में रहता है और कंप्यूटर की दुकान करता है। उसकी दुकान पर मनोज चमोला काफी समय से काम कर रहा है। कुछ दिल पहले मनोज ने कहा कि उसने अपना काम शुरू किया है और वह विदेशों में पैसा निवेश करता है। वह भी उसको सहयोग करे ताकि उसका काम चलता रहे। इस पर उसने अपने साथियों को मिलाया और बिटक्वाइन के नाम पर अच्छी-खासी रकम निवेश करवा दी। कुछ लाभ भी दिलाया, जिसके बाद उसने और रुपये निवेश करने को कहा। इस तरह करीब 33.50 लाख रुपये निवेश किया। बाद में इन आरोपितों ने उसके फोन उठाने ही बंद कर दिए। समझौते के बाद भी रुपये नहीं मिले

इतना ही नहीं एसपी को दी शिकायत के बाद मामला आर्थिक अपराध शाखा को सौंपा गया। शिकायतकर्ता का आरोप है कि इस जांच में तथ्यों को तरोड़ मरोड़कर सारा केस बदल दिया गया और बाद में समझौता हुआ कि रुपये वापस करवाए जाएंगे। लॉकडाउन में समय बीत गया और आरोपित रुपये वापस करने से मुकर गए। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

Edited By: Jagran