जागरण संवाददाता, अंबाला : हरियाणा के गृह, स्वास्थ्य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री अनिल विज ने गुरुवार को को अंबाला-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर 5 एकड़ में लगभग 40 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाले आर्यभट्ट विज्ञान केंद्र (सब रीजनल साइंस सेंटर) के निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। इस दौरान शारीरिक दूरी का पूरा ध्यान रखा गया, जबकि इस दौरान दायरे बनाए गए, जिसमें मंत्री विज व अन्य खड़े हुए। यह विज्ञान केंद्र एक साल में तैयार हो जाएगा तथा इसमें साइंस संबंधित 60 प्रदर्शनियां भी स्थापित की जाएंगी, जोकि विज्ञान के विभिन्न नियमों पर आधारित होंगी।

विज ने बताया कि 40 करोड़ रुपये से तैयार होने वाला यह विज्ञान केंद्र दो मंजिला होगा। इसको चार मंजिला बनाने का प्रयास किया जाएगा। साइंस के प्रति विद्यार्थियों की रूचि बढ़ सके इसके लिए इस केंद्र का निर्माण किया जा रहा है। इसमें साइंस से सम्बन्धित आधुनिक प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी।

इस भवन का निर्माण पूरा होने पर हरियाणा साइंस एंड टेक्नोलॉजी और नेशनल काउंसिल ऑफ साइंस म्यूजियम कोलकत्ता द्वारा संयुक्त रूप से यहां विज्ञान से जुड़ी वस्तुओं व मॉडल को लाया जाएगा। यहां स्थापित होने वाली डिजिटल एडवेंचर गैलरी में डिजिटल पेंटिग, बैलून ब्रस्ट, ऑगोमेटिड रियलटी, कलर सेसिग रोबोट, हयूमन बॉडी सिस्टम, इंटरेक्टिव वाटर हॉल, इंटरेक्टिव सैंड टेबल, होलोग्राम, स्मार्ट इलेक्ट्रॉनिक्स इत्यादि की सुविधाएं होंगी। इसी प्रकार प्रथम मंजिल पर फन साईंस गैलरी, साईंस ऑन स्फेयर, वर्चुअल गैलरी थियेटर, 270 डिग्री इम्प्रेसिव थियेटर और तारामंडल की व्यवस्था रहेगी।

आर्यभट्ट विज्ञान केन्द्र में ग्राउंड फ्लोर पर रिसेप्शन कार्यालय, अस्थाई व स्थाई प्रदर्शनी हॉल, सम्मेलन हॉल, सभागार प्रदर्शनी, विकास कार्यशाला और स्टोर का निर्माण किया जाएगा। इसकी पहली मंजिल पर वी.आर. थियेटर, 270 डिग्री इमर्सिव प्रोजेक्टर हाल, एसओएस हॉल, एक्टिविटी हॉल के अलावा स्थाई प्रदर्शनी हॉल होगा। इस मौके पर विज्ञान एंव प्रौद्योगिक विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अमित झा, लोक निर्माण विभाग के अधीक्षक अभियंता संजीत कुमार, कार्यकारी अभियंता निशांत आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस