जागरण संवाददाता, अंबाला : प्रदेश में आठवीं कक्षा की परीक्षा के सन्दर्भ में नेशनल इंडिपेंडेंट स्कूल्स एलायंस (निसा) के अध्यक्ष डा. कुलभूषण शर्मा ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री भारत सरकार को पत्र लिख कर हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा 8वीं बोर्ड की परीक्षा को लेकर जारी किए गए पत्र का स्पष्टीकरण जारी करने का आग्रह किया है ताकि अभिभावकों, विद्यार्थियों और स्कूल संचालकों को स्थिति साफ हो सके। उन्होंने कहा राज्य सरकार के नियमों सीबीएसई बोर्ड के संबद्धीकरण के नियमों व नई शिक्षा नीति के प्रावधानों के विपरीत है।

केंद्रीय बोर्ड के नियम और हरियाणा सरकार के नियमों में स्पष्ट प्रावधान है कि एक विद्यालय में दो बोर्डों से संबंधित कक्षाएं नहीं चलाई जा सकती। ऐसे में अगर हरियाणा बोर्ड सीबीएसई स्कूलों की भी परीक्षा लेगा तो क्या यह नियमों का उल्लंघन नहीं होगा। उन्होंने मांग की कि अगर हरियाणा स्कूल एक स्कूल में दो बोर्डों से संबंधित परीक्षा करवाना चाहती है तो वह सीबीएसई के नियमों में पहले परिवर्तन कराएं। सरकार ने खुद अपने 125 विद्यालयों को सीबीएसई से संबद्धता दिलाने का प्रयास शुरू कर दिया है ऐसे में बाकी विद्यालयों को और इन्हीं विद्यालयों के विद्यार्थियों को स्टेट बोर्ड से परीक्षा दिलाना सही कदम प्रतीत नहीं होता। शर्मा ने 3 , 5 और 8 में मूल्यांकन आयोजित करने के लिए एसएसए गठित करने का आग्रह किया है। कहा, नई शिक्षा नीति में यह प्रस्ताव किया गया है कि 2022-23 तक केवल 12वीं कक्षा के लिए बोर्ड परीक्षा होगी। हालांकि, हरियाणा बोर्ड इस साल से आठवीं कक्षा के लिए बोर्ड परीक्षा आयोजित करने का प्रस्ताव कर रहा है जो पूरी तरह से एनईपी की भावना के खिलाफ है।

Edited By: Jagran