जागरण संवाददाता, अंबाला : कैंटोनमेंट में लोगों ने डेयरियां खोल दी हैं। उसके चलते कैंटोनमेंट में गंदगी की तमाम शिकायतें सामने आ रही हैं। डेयरियों की नालों में बहाई जा रही है। इससे नाले चोक हो जाते हैं। साथ ही पानी की निकासी भी नहीं हो पाती है। गोबर को खुले मैदान में डाल देते हैं। उससे तरह-तरह की बीमारियां पनपने का खतरा बढ़ रहा है। इन सभी समस्याओं को देखते हुए कैंटोनमेंट बोर्ड ने वार्डो से संचालित डेयरियों को तोपखाना के पास शिफ्ट करने की कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए प्रपोजल भी तैयार किया जाने लगा है। तोपखाना में पांच एकड़ जमीन में डेयरियां को शिफ्ट किया जाएगा।

बेसहारा पशुओं को भी मिलेगा ठिकाना

कैंटोनमेंट क्षेत्र में बेसहारा पशुओं की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। सड़कों पर बेसहारा पशुओं के घूमने से सड़क हादसे का भी खतरा है। लोगों ने बेसहारा पशुओं को लेकर कैंटोनमेंट के अधिकारियों से शिकायत भी की, लेकिन इस पर अमल किया जाने लगा है।

---------

बोर्ड बैठक में मिल गई थी मंजूरी

कुछ दिनों पहले हुई बोर्ड बैठक में भी डेयरियों के शिफ्टिग का मुद्दा उठाया गया था। जिस पर बोर्ड बैठक ने भी डेयरियां बाहर ले जाने पर सहमति जताई थी, लेकिन अब कागजी कार्रवाई पूरी करने की कवायद शुरू हो गई है। जल्द ही प्रपोजल बनाकर धरातल पर तोपखाना के पास बड़ी डेयरी बनाने का काम जल्द शुरू किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस